मध्य प्रदेश

MP : प्रीमियम भरा 1 हजार 50 रुपये, किसान को फसल बीमा के नाम पर मिला 1 रुपया

MP : प्रीमियम भरा 1 हजार 50 रुपये, किसान को फसल बीमा के नाम पर मिली 1 रुपये की राशि

गोधना गांव के रहनेवाले किसान पूरनलाल फसल बीमा के नाम पर मिली एक रुपये की राशि सरकार को वापस करने वाले हैं.

जिले के हजारों किसानों के खातों में 100 या 50 रुपये से भी कम बीमा राशि आई है. गोधना गांव के किसान पूरनलाल के खाते में बीमा राशि केवल 1 रुपये आई. वे सरकार को ये राशि वापस करने की तैयारी में हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated:
    September 19, 2020, 5:39 PM IST

बैतूल. बैतूल (Betul) में बीमा राशि (insurance coverage) के नाम पर किसानों (Farmers) के साथ जो कुछ हुआ है, वह उनके लिए किसी सदमे से कम नहीं है. जिले के हजारों किसानों के खातों में 100 या 50 रुपये से भी कम बीमा राशि आई है. हद तो तब हो गई जब गोधना (Godhana) गांव के एक किसान के खाते में बीमा राशि केवल 1 रुपये आई. किसान इसे धोखा मान रहे हैं और वे सरकार को ये राशि वापस करने की तैयारी में हैं. वे उग्र प्रदर्शन शुरू कर चुके हैं.

हास्यास्पद बीमा राशि

प्रदेश सरकार ने बड़े जोर-शोर से सूबे के 22 लाख से ज्यादा किसानों को फसल बीमा की राशि दी. लेकिन इसमें हास्यास्पद बात यह रही कि कुछ किसानों के हिस्से महज 1 रुपये की राशि आई. बैतूल के गोधना गांव के रहनेवाले किसान पूरनलाल का नाम ऐसे ही किसानों में एक है. उन्होंने 1 हजार 50 रुपये बीमा प्रीमियम अदा किया था, लेकिन उन्हें इनके हिस्से बीमा राशि केवल 1 रुपये आई. बीमा राशि की जानकारी मिलते ही पूरनलाल सदमे की स्थिति में आ गए. पूरनलाल बताते हैं कि ढाई हेक्टेयर के रकबे में लगभग एक लाख की फसल खराब हुई थी, लेकिन जब उन्हें केवल एक रुपये बीमा राशि मिली तो अब ये समझ नहीं आ रहा है कि इस राशि पर हंसे या रोएं.

वह लिस्ट जिसमें किसान को एक रुपये की राशि बतौर फसल बीमा मिली,

वह लिस्ट जिसमें किसान को एक रुपये की राशि बतौर फसल बीमा मिली.

सरकार को वापस देंगे बीमा कम्पनी से मिले 1 रुपये

पूरनलाल की तरह ऐसे हजारों किसान हैं, जिनके खातों में बीमा की राशि 100 रुपये या 50 रुपये से भी कम आई है. किसान इस भद्दे मजाक से दुखी हैं और आक्रोशित भी. गोधना गांव के ही किसान पवन के मुताबिक ये एक-दो रुपये बीमा राशि उन्हें देकर अपमानित किया गया है, इस राशि को वो सम्मान के साथ सरकार को लौटा देंगे.

कृषि विभाग ने पल्ला झाड़ा, बीमा कम्पनी से करेंगे पूछताछ

फसलों के नुकसान के एवज में मिली बीमा राशि को लेकर कृषि विभाग के पास भी सही जानकारी उपलब्ध नहीं है. कृषि अधिकारियों के मुताबिक बीमा कम्पनी द्वारा नुकसान का आकलन करने का अपना तरीका है. लेकिन जिन किसानों के खातों में 200 रुपये से कम राशि आई है, उनकी लिस्ट दोबारा बीमा कम्पनी को भेजी जा रही है. हालांकि किसानों के खातों में एक रुपये डालने जैसा मजाक क्यों हुआ – इसे लेकर जरूर बीमा कम्पनी से पूछताछ होगी.

कुल 64 हजार 893 किसानों को मिली फसल बीमा की राशि

बैतूल जिले में कुल 64 हजार 893 किसानों को फसल बीमा की राशि दी गई है. जिसके लिए 81 करोड़ 71 लाख की राशि जारी की गई थी. लेकिन अधिकतर किसान बीमा की राशि को लेकर आक्रोशित हैं, जिससे ये तो जाहिर हो रहा है कि राजस्व अमले, बीमा कम्पनी या फिर किसी तीसरे की लापरवाही से ही किसानों को भारी नुकसान झेलना पड़ा है.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button