मध्य प्रदेश

श्योपुर नगरीय निकाय चुनाव: BJP-कांग्रेस में लगी दावेदारों की होड़

MP की 407 में से 307 निकायों का कार्यकाल सितंबर 2020 में पूरा हो चुका है.

MP की 407 में से 307 निकायों का कार्यकाल सितंबर 2020 में पूरा हो चुका है.

MP News: मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के श्योपुर (Sheopur) में नगरीय निकाय चुनाव (Election) की तारीख अभी तय नहीं हो सकी है, लेकिन भाजपा और कांग्रेस पार्टियों से अध्यक्ष-पार्षद के टिकट हांसिल करने के लिए उम्मीदवारों ने जोर आजमाइश शुरू कर दी है.

श्योपुर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के श्योपुर (Sheopur) में नगरीय निकाय चुनाव (Election) की तारीख अभी तय नहीं हो सकी है, लेकिन भाजपा और कांग्रेस पार्टियों से अध्यक्ष-पार्षद के टिकट हांसिल करने के लिए उम्मीदवारों ने जोर आजमाइश शुरू कर दी है. बात जब विजयपुर नगर परिषद की की जाए तो यहां दोनों ही पार्टियों में टिकट मांगने वाले उम्मीदवारों की लम्बी लाइन है, जिनमें से एक चेहरे का चुनाव करने में दोनों ही पार्टियों को खासी दिक्कतें होंगी. क्योंकि, टिकट कटने की स्थिति में विरोध की भारी आशंका रहेंगी और पार्टी को चुनाव में भारी नुकसान भी उठाना पड़ सकता है. इस वजह से दोनों पार्टियां कार्यकर्ताओं की आपसी सहमति से जनता की राय के आधार पर प्रत्याशी का चुनाव कराने की तैयारी में है.

विजयपुर नगर परिषद के चुनाव में टिकट बांटने की समस्या से निजात पाना ही भाजपा और कांग्रेस की मुख्य समस्या नहीं है. बल्कि,  यहां की मुख्य समस्या पेयजल समस्या है, जिससे नगरवासी देश की आजादी के बाद से अब तक जूझते चले आ रहे हैं. इस समस्या का स्थाई हल करने के लिए नगरी निकाय चुनावों से लेकर विधानसभा और लोकसभा चुनावों में भाजपा और कांग्रेस के जनप्रतिनिधि बड़े-बड़े बादे करते चले आ रहे हैं, लेकिन अभी तक इस समस्या का कोई समाधान नहीं हो सका है. नगरवासी आज भी पेयजल संकट की बेकरार स्थिति से जूझ रहे हैं. ऐसे में यह मुद्दा आने वाले नगरी निकाय चुनावों में दोनों ही पार्टियों के लिए संकट बन सकता है.

ये भी है समस्या


पेयजल समस्या ही नहीं बल्कि बदहाल सड़कें और साफ सफाई की बदहाल व्यवस्था है भी आने वाले चुनावों में कांग्रेस और भाजपा के लिए परेशानी बनेगा. पिछले 5 साल तक विजयपुर तीन अगर सरकार कांग्रेस के हाथ में रही इस वजह से आगामी चुनाव में ज्यादा दिक्कतें कांग्रेस को ही उठानी पड़ेगी. हालांकि ,  इस बार पिछड़ा वर्ग पुरुष सीट होने की वजह से प्रत्याशी बदल जाएंगे. जिसका फायदा लेने के लिए पार्टियां जिताऊ चेहरों की तलाश में जुटी हैं. विजयपुर नगर के रहने वाले सुदीप गर्ग का कहना है कि, उनके नगर की मुख्य समस्या पेयजल समस्या है, जिसे दूर करने के बादे पिछले हर चुनाव में होते रहे हैं, लेकिन अभी तक पेयजल के मामले में किसी भी प्रत्याशी ने चुनाव जीतने के बाद कोई काम नहीं किया है. इससे विजयपुर वासी परेशान है.

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button