मध्य प्रदेश

पूर्व पार्षद की शिकायत लेकर गया तो थाने में कपड़े उतरवाए, लॉकअप के पास बैठाकर सिपाहियों ने पीटा, कागज पर साइन करवाने के बाद ही छोड़ा

  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Europe Man In Indore Police Control Room; Complained Against TI, Constable And Former Parshad

इंदौर16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एनआरआई का कहना – काॅलोनाइजर और पूर्ष पार्षद से प्लाट मांगा तो बोले – इंडिया में ऐसा ही होता है

  • टीआई बोले – मारपीट नहीं हुई, वो कार्रवाई के लिए दबाव बना रहा था, हमने जांच के लिए कहा था
  • स्पेन में रहने वाले व्यापारी ने खरीदा था प्लॉट, कब्जा लेने पहुंचे तो पता चला कि यह सरकार के पास है

तेजाजी नगर थाने में एक एनआरआई के साथ शर्मनाक हरकत किए जाने का मामला सामने आया है। शनिवार को पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचे एनआरआई ने टीआई, थाने के सिपाही और पूर्व पार्षद के खिलाफ शिकायत की। एनआरआई ने आरोप लगाया कि उसने जहां प्लाट खरीदा था, उसका कॉलोनाइजर पूर्व पार्षद है। उसने प्लाट नहीं दिया तो शिकायत लेकर थाने पहुंचा। वहां टीआई ने सिपाहियों से पकड़वाकर पूरे कपड़े उतरवाए और फिर लॉकअप के पास बिठाकर पिटाई करवाई। इतना ही नहीं, कागज पर साइन करवाने के बाद ही छोड़ा। मामले में टीआई का कहना है कि उसके साथ कोई अभद्रता नहीं हुई। वह गर्माहट दिखा रहा था तो उसे केबिन से बाहर बैठा दिया था। बस उससे वह उत्तेजित हो गया था। दोनों पक्षों ने एक-दूसरे खिलाफ शिकायत की है।

एनआरआई ने बताई ये कहानी

30 साल से स्पेन में रह रहे व्यापारी दिलीप कुमार मंगानी शनिवार को पुलिस कंट्रोल रूम पहुंचे। मंगानी ने डीआईजी कार्यालय और क्राइम ब्रांच में पूर्व पार्षद प्रीतम माटा, उनके तीन पार्टनर और तेजाजी नगर टीआई के खिलाफ शिकायती आवेदन दिया है। मंगानी ने बताया कि वे यहां बैराठी के हैं। उनके स्पेन में कपड़े व अन्य सामान के 6 शोरूम हैं। मंगानी ने माटा की कॉलोनी गैलेक्सी पार्क में 2013 में एक प्लॉट लिया था। 2015 में रजिस्ट्री करवाई। 2020 वे घर बनाने के लिए आए तो नक्शा पास करवाने के लिए आवेदन दिया। तब पता चला कि उनका रजिस्टर्ड प्लाट तो प्रशासन के पास बंधक है। प्रशासन से कहा कि जब प्रापर्टी बंधक है तो तुम्हें रजिस्ट्री कैसे कर दी।

एनआरआई ने इसकी शिकायत माटा से की तो उन्होंने कहा कि इंडिया में ऐसा ही होता है। 6 महीने में व्यवस्था करवा देंगे। यहां हमारे पॉलिटिकल संबंध काफी अच्छे हैं। यहां लोगों का पता नहीं चलता है। इसके बाद एनआरआई ने 15 दिन पहले कलेक्टोरेट, एसपी और डीआईजी कार्यालय में आवेदन दिया, लेकिन वहां कुछ नहीं हुआ। दो दिन पहले एनआरआई ने एसपी विजय खत्री से संपर्क किया। उन्होंने तेजाजी नगर थाने भेजा।

टीआई बक रहे थे गालियां

एनआरआई का कहना है कि उन्होंने टीआई को फोन लगाया और फिर तय समय पर शुक्रवार शाम 6 बजे थाने पहुंचे गए। रात 8 बजे तक टीआई ने सुनवाई नहीं की। इस पर एनआरआई ने आपत्ति ली, तो टीआई गाली देने लगे। एनआरआई ने इसकी रिकार्डिंग कर ली। फिर वे जाने लगे तो टीआई दौड़े। उसे पीछे से पकड़ा। फिर सिपाहियों को बुलाकर हवालात के पास पकड़कर ले गए। फिर सिपाहियों ने पीटा। उनके कपड़े उतारकर बैठा दिया। 20 मिनट बाद सिपाही आए। बोले लिखकर दो कि तुमने टीआई को मारा और गालियां दी। एनआरआई ने मना किया तो सिपाही बोला तुमने रिकार्डिंग की है। इसका लिखकर दो। एनआरआई ने मना किया तो आधा घंटे और बैठाया। गुहार लगाई कि मेरे पिता की तबीयत खराब है, जल्दी घर जाना है। इसके बाद फिर सिपाही ने बोला कि बिना लिखे जाने नहीं देंगे। एनआरआई का कहना है कि फिर पुलिस ने धमकाकर कागज पर लिखवाया और फिर छोड़ा। रात को एसपी को भी फोन लगाया तो उन्होंने ज्यादा रिस्पांस नहीं दिया।

हम ऐसा क्यों करेंगे

टीआई का कहना है कि एनआरआई ने गैलेक्सी पार्क में 7 प्लाट बुक करवाए हैं। तीन की रजिस्ट्री हो चुकी है, 4 की बाकी है। दो प्लाट बंधक की बात सामने आई। इस पर गैलेक्सी पार्क वालों का कहना है वे रजिस्ट्री करवाने को तैयार हैं। एनआरआई का कहना है कि प्लाट बंधक है कैसे ले लूं। इसको लेकर दोनों में विवाद है। वह कल आया था। यहां कोई अभद्रता नहीं हुई। वह दबाव बनाकर तत्काल एफआईआर दर्ज करवाना चाहता था, जबकि बिना जांच के कैसे कर सकते हैं। मैंने उसकी पूरी जानकारी एसपी साहब को दे दी है।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button