भोपाल

देश के ऐसे मंदिर जिनका रहस्य वैज्ञानिक भी नहीं खोज पाए

जानें क्या है इन मंदिरों का रहस्य…

सनातन धर्म में मंदिरों की परम्परा काफी पूरानी है। ऐसे में देश में आज लाखों करोड़ों मंदिर है। भारत में बने इन मंदिरों में कई मंदिर आज भी रहस्य बने हुए हैं। दरअसल इनका रहस्‍य आज भी लोगों के लिए एक अनसुलझी पहेली है यानि ये मंदिर समझ से परे हैं।

ऐसे में चाहे फिर वह गढ़मुक्‍तेश्‍वर का प्राचीन गंगा मंदिर हो या फिर टिटलागढ़ का रहस्‍यमयी शिव मंदिर या कांगड़ा का भैरव मंदिर। आइए जानते हैं कि इन मंदिरों का क्‍या रहस्‍य जिन्हें जानने के लिए किए गए तमाम प्रयास असफल सिद्ध हुए…

भगवान जगन्‍नाथ जी का मंदिर: जो देता है मानसून के दस्‍तक की जानकारी

भगवान जगन्‍नाथ जी का मंदिर: जो देता है मानसून के दस्‍तक की जानकारी

कानपुर जिले की घाटमपुर तहसील के बेहटा गांव में भगवान जगन्‍नाथ जी का एक मंदिर है। इस मंदिर में मानसून आने से ठीक 15 दिन पहले मंदिर की छत से पानी टपकने लगता है। इसी से आस-पास के लोगों को बारिश के आने का अंदाजा हो जाता है।

कहा जाता है कि इस मंदिर का इतिहास 5 हजार साल पुराना है। यहां मंदिर में भगवान जगन्‍नाथ, बलदाऊ और बहन सुभद्रा के साथ विराजमान हैं। इनके अलावा मंदिर में पद्मनाभम की भी मूर्ति स्‍थापित है। स्‍थानीय निवासियों के अनुसार सालों से वह मंदिर की छत से टपकने वाली बूंदों से ही मानसून के आने का पता करते हैं। कहते हैं कि इस मंदिर की छत से टपकने वाली बूंदों के हिसाब से ही बारिश भी होती है।

यदि बूंदे कम गिरीं तो यह माना जाता है बारिश भी कम होगी। इसके उलट अगर ज्‍यादा तेज और देर तक बूंदे गिरीं तो यह माना जाता है कि बारिश भी खूब होगी। बताते हैं कई बार वैज्ञानिक और पुरातत्‍व विशेषज्ञों ने मंदिर से गिरने वाली बूंदों की पड़ताल की। लेकिन सदियां बीत गई हैं इस रहस्‍य को, आज तक किसी को नहीं पता चल सका कि आखिर मंदिर की छत से टपकने वाली बूंदों का राज क्‍या है।

शिवलिंग के अंकुर से निकलती हैं अन्‍य देवी-देवताओं की आकृतियां

शिवलिंग के अंकुर से निकलती हैं अन्‍य देवी-देवताओं की आकृतियां

गढ़मुक्‍तेश्‍वर स्थित प्राचीन गंगा मंदिर के रहस्‍य को भी आज तक नहीं समझा जा सका है। मंदिर में स्‍थापित शिवलिंग पर प्र‍त्‍येक वर्ष एक अंकुर उभरता है। जिसके फूटने पर भगवान शिव और अन्‍य देवी-देवताओं की आकृतियां निकलती हैं।

इस विषय पर काफी रिसर्च वर्क भी हुआ लेकिन शिवलिंग पर अंकुर का रहस्‍य आज तक कोई समझ नहीं पाया है। यही नहीं मंदिर की सीढ़‍ियों पर अगर कोई पत्‍थर फेंका जाए तो जल के अंदर पत्‍थर मारने जैसी आवाज सुनाई पड़ती है। ऐसा महसूस होता है कि जैसे गंगा मंदिर की सीढ़‍ियों को छूकर गुजरी हों। यह किस वजह से होता है यह भी आज तक कोई नहीं जान पाया है।

कोई परेशानी आने से पहले भैरव की मूर्ति से गिरने लगते हैं आंसू

कोई परेशानी आने से पहले भैरव की मूर्ति से गिरने लगते हैं आंसू

कांगड़ा के बज्रेश्‍वरी देवी मंदिर में भैरव बाबा की अनोखी प्रतिमा है। यहां आसपास के क्षेत्रों में जैसे ही कोई परेशानी आनी वाली होती है तो भैरव बाबा की इस मूर्ति से आंसुओं का गिरना शुरू हो जाता है।

स्‍थानीय नागरिक इसी से आने वाली समस्‍याओं का पता लगाते हैं। कहा जाता है कि मंदिर में स्‍थापित यह प्रतिमा 5 हजार साल से भी ज्‍यादा पुरानी है।

वहीं मंदिर के पुजारी के अनुसार जब भी उन्‍हें प्रतिमा से आंसू गिरते हुए दिखते हैं वह भक्‍तों के संकट काटने के लिए प्रभु की विशेष पूजा-अर्चना शुरू कर देते हैं। हालांकि भैरव बाबा के इन आंसुओं के पीछे का रहस्‍य आज तक कोई भी नहीं जान पाया।

बाहर गर्मी की तपीश, लेकिन मंदिर परिसर में ठंडी हवा का अहसास...

बाहर गर्मी की तपीश, लेकिन मंदिर परिसर में ठंडी हवा का अहसास…

टिटलागढ़ उड़ीसा का सबसे गर्म क्षेत्र माना जाता है। इसी जगह पर एक कुम्‍हड़ा पहाड़ है, जिस पर एक अनोखा शिव मंदिर स्‍थापित है। पथरीली चट्टानों के चलते यहां पर प्रचंड गर्मी होती है। लेकिन मंदिर में गर्मी के मौसम का कोई असर नहीं होता है। और तो और यहां एसी से भी ज्‍यादा ठंड होती है।

खास बात यह है कि यहां प्रचंड गर्मी के चलते मंदिर परिसर के बाहर भक्‍तों के लिए 5 मिनट खड़ा होना भी दुश्‍वार होता है, लेकिन मंदिर के अंदर कदम रखते हैं एसी से भी ज्‍यादा ठंडी हवाओं का अहसास होने लगता है। हालांकि यह वातावरण केवल मंदिर परिसर तक ही रहता है। बाहर आते ही पुन: प्रचंड गर्मी परेशान करने लगती है। इसके पीछे क्‍या रहस्‍य है आज तक कोई नहीं जान पाया।

यहां देवियों की आपस में बातें करने की आती हैं आवाजें

यहां देवियों की आपस में बातें करने की आती हैं आवाजें

बिहार के बक्‍सर में तकरीबन 400 साल पहले ‘मां त्रिपुर सुदंरी’ मंदिर का निर्माण हुआ था। इसकी स्‍थापना के बारे में जिक्र मिलता है कि भवानी मिश्र नाम के एक तांत्रिक ने ही इसकी स्‍थापना की थी।

इस मंदिर में प्रवेश करते ही आपको एक अलग तरह की शक्ति का आभास हो जाएगा, लेकिन मध्‍य रात्रि में मंदिर परिसर से आवाजें आनी शुरू हो जाती है। कहा जाता है कि यह आवाजें देवी मां की प्रतिमाओं के आपस में बात करने से आती है। आस-पास के लोगों को भी यह आवाजें साफ-साफ सुनाई देती हैं।

मंदिर से आने वाली आवाजों पर कई पुरातत्‍व विज्ञानियों ने अध्‍ययन किया लेकिन परिणाम में निराशा ही हाथ आई। फिलहाल पुरातत्‍व विज्ञानियों ने भी यही मान लिया कि कुछ तो है जो मंदिर में आवाजें आती हैं।

यहां की सीढ़‍ियों पर गूंजता है संगीत

यहां की सीढ़‍ियों पर गूंजता है संगीत

तमिलनाडु में एक मंदिर है ‘ऐरावतेश्‍वर मंदिर’, जिसका निर्माण 12वीं सदी में चोल राजाओं ने करवाया था। ज्ञात हो कि यह बेहद ही अद्भुत मंदिर है। यहां की सीढ़‍ियों पर संगीत गूंजता है। इस मंदिर को बेहद खास वास्‍तुशैली में बनाया गया है।

इस मंदिर की खास बात है तीन सीढ़‍ियां। जिन पर जरा सा भी तेज पैर रखने पर संगीत की अलग-अलग ध्‍वन‍ि सुनाई देने लगती है। लेकिन इस संगीत के पीछे क्‍या रहस्‍य है। इस पर आज तक पर्दा ही है। यह मंदिर भोलेनाथ को समर्पित है।

मंदिर की स्‍थापना को लेकर स्‍थानीय किवंदतियों के अनुसार यहां देवताओं के राजा इंद्र के सफेद हाथी ऐरावत ने शिव जी की पूजा की थी। इस वजह से इस मंदिर का नाम ऐरावतेश्‍वर मंदिर हो गया। बता दें कि यह मंदिर महान जीवंत चोल मंदिरों के रूप में जाना जाता है, साथ ही इसे यूनेस्‍को की ओर से वैश्विक धरोहर स्‍थल भी घोषित किया गया है।

MUST READ : एक ऐसी देवी जिन्होंने धारण कर रखें हैं चारों धाम

https://www.patrika.com/temples/goddess-who-strongly-hold-all-four-dhams-6056143/

MUST READ : एक गाय अपने थनों से हर रोज इस शिला पर चढ़ाती थी दूध, कारण जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान

https://www.patrika.com/temples/miracle-of-shiv-temple-a-cow-used-to-offer-milk-on-rock-every-day-6026288/

MUST READ : ये हैं न्याय के देवता, भक्त मन्नत के लिए भेजते हैं चिट्ठियां और चढ़ाते हैं घंटी व घंटे

https://www.patrika.com/temples/god-of-justice-temple-is-here-at-devbhoomi-in-india-5965810/

Mysterious Temple
mysterious temple in india
mysterious temples
oldest and mysterious temple of shiva

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button