पटना
हाल के दिनों में बिहार में अपराध की बढ़ती घटनाओं के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को पुलिस महकमे पर जम कर बरसे. लगभग 325 करोड़ रुपए की लागत से नए पुलिस मुख्यालय का उद्घाटन करते हुए नीतीश कुमार ने डीजीपी केएस द्विवेदी समेत पुलिस महकमे के तमाम आला अधिकारियों को खरी-खरी सुनाते हुए कहा कि जब सरकार आपकी रक्षा पर ध्यान देती है तो आप जनता की सुरक्षा को भगवान भरोसे या अपराधियों के भरोसे मत छोड़िए.

आम तौर पर मुख्यमंत्री नितीश कुमार सूबे की कानून- व्यवस्था को सार्वजनिक रूप से हमेशा बेहतर बताते रहे हैं लेकिन कहीं न कहीं उनके मन में भी बेहतर कानून व्यवस्था होने को लेकर संशय आज साफ दिखा.  मुख्यमंत्री के तेवर को देखकर कुछ ऐसा ही लगा.  सीएम ने पुलिस अधिकारियो को जब खरी-खरी सुनानी शुरू की तब अधिकारी बगले झंकने लगे.

महज कुछ दिनों पहले अपने संबोधन में सीएम ने बिहार की कानून - व्यवस्था को तुलनात्मक रुप से संतोषप्रद बताया था लेकिन आज जब राज्य पुलिस मुख्यालय के उदघाटन समारोह में सीएम ने पुलिस अधिकारियो को संबोधित करना शुरू किया तो कई मिनटोंं तक रूके ही नहीं.

सीएम ने कहा कि सरकार आपकी सुरक्षा का ख्याल रखती है लेकिन आपसे आम लोगों की सुरक्षा की अपेक्षा भी रखती है. नीतीश ने कहा कि लोगो की सुरक्षा भगवान और अपराधियो के भरोसे छोड़ देना सही नही है. सीएम ने शराबबंदी कानून में कार्रवाई पर भी असंतोष जताया.

पुलिस हाकिमों को ना उगलते बन रहा था औरा ना ही निगलते. कुर्सी पर बैठे ये हाकिम अपनी जगह छोड़ भी नही सकते थे क्योंकि सामने बोलनेवाला और कोई नहीं सरकार के मुखिया थे.

सीएम के तेवर औऱ बॉडी लैंग्वेज को पुलिस प्रशासन के मुखिया और डीजीपी केएस द्विवेदी ने समय रहते भांर लिया था. डीजीपी साहब को भी अहसास था कि एक बेहद आधुनिक कमांड सेंटर वाला पुलिस मुख्यालय बिहार पुलिस के लिये बहुत बड़ूी सौगात थी. लिहाजा डीजीपी  ने अपने पूरे महकमे की तरफ से सरकार को बेहतर काम का भरोसा दिलाया.

Source : Agency