नई दिल्ली 

फ्रांस के साथ राफेल डील पर सियासी संग्राम जारी है। रिलांयस को लेकर फ्रांस की कंपनी दसॉ कंपनी के सीईओ की सफाई के बाद गुरुवार को बीजेपी ने पलटवार करते हुए कांग्रेस के एक के बाद एक 8 'झूठ' गिनाए। गुरुवार को ही कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के फ्रांस दौरे पर सवाल उठाते हुए प्रधानमंत्री को 'भ्रष्ट व्यक्ति' करार दिया था जो 'भ्रष्टाचार से लड़ने के वादे' पर सत्ता में आए। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कोई मुद्दा न मिलने पर कांग्रेस राफेल पर बार-बार झूठ फैलाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि फ्रेंच मीडिया ने जो झूठी रिपोर्ट दी थी, उसका खुलासा फ्रांस की कंपनी (दसॉ) के सीईओ ने कर दिया है।

पीयूष गोयल ने कहा कि झूठ पर झूठ बोलने से सच नहीं बदल जाएगा। शायद यह इसीलिए किया जा रहा है कि 2012 में उन्होंने जो अपने लोगों (गांधी परिवार) को फायदा पहुंचाने की कोशिश की, वह छिपाई जा सके। कांग्रेस पर दुष्प्रचार का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि झूठ को भले ही 100 बार दोहरा दिया जाए, वह सच नहीं हो सकता। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस के फेक न्यूज का पर्दाफाश फ्रेंच कंपनी ने ही कर दिया है।'

इसके बाद गोयल ने कांग्रेस के कथित 8 झूठ गिनाते हुए कहा-

पहला झूठ- फ्रेंच मीडिया हाउस की रिपोर्ट को ट्विस्ट किया। दसॉ के सीईओ ने इसे खारिज किया था। 

दूसरा झूठ- सुप्रीम कोर्ट के फैसले को ट्विस्ट किया। सुप्रीम कोर्ट ने साफ तौर पर कहा था कि राफेल की कीमत नहीं जाननी। 

तीसरा झूठ- डिफेंस मिनिस्ट्री के एक अधिकारी के बारे में बोला गया कि उसका ट्रांसफर कर दिया गया है, उसे छुट्टी पर भेज दिया गया है। जबकि वह ट्रेनिंग के लिए गया था। 

चौथा झूठ- फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के नाम से एक झूठ फैलाने की कोशिश की गई, जिसका खुलासा खुद पूर्व राष्ट्रपति ओलांद ने ही कर दिया। 

पांचवां झूठ- राहुल गांधी ने कहा कि ओलांद ने पीएम मोदी के बारे में अनाप-शनाप शब्दों के इस्तेमाल किए। इसका बाद में खुद ओलांद ने खंडन किया।

छठा झूठ- संसद में कहा गया कि वह व्यक्तिगत रूप से फ्रेंच प्रेजिडेंट से मिले थे और उन्होंने कहा था कि ऐसा कोई सिक्रेसी क्लॉज नहीं है। इससे भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। फ्रांस की सरकार को खुद खंडन करना पड़ा। भारत के लिए आगे के लिए भी एक मुसीबत छोड़कर जा रहे हैं कांग्रेस अध्यक्ष। कांग्रेस अध्यक्ष विश्व में भारत की छवि खराब करने की कोशिश कर रहे हैं। सेक्रेसी क्लॉज की शुरुआत तो वास्तव में 2008 में कांग्रेस की मनमोहन सिंह सरकार ने ही की थी। 

सातवां झूठ- अलग अलग दाम बताए जा रहे हैं राफेल के। राफेल विमान के दाम की फुली लोडेड राफेल के साथ तुलना की जा रही है। यह कुछ ऐसे ही है जैसे किसी बीज की तुलना किसी बगीचे से की जाए। 

आठवां झूठ- कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि डील को लेकर कैबिनेट कमिटी ऑन डिफेंस को लूप में नहीं लिया गया। कांग्रेस अध्यक्ष सिलसिलेवार ढंग से झूठ बोल रहे हैं। अब उन्हें झूठ फैलाना बंद कर देना चाहिए।

 

Source : Agency