रायपुर
छत्तीसगढ़ में फिलहाल सभी दलों के प्रत्याशियों के नाम घोषित नहीं हुए हैं, लेकिन विधानसभा के घमासान का बिगुल बज चुका है. धमतरी में मीडिया से बातचीत में अजीत जोगी ने छत्तीसगढ़ में खुद के मुख्यमंत्री बनने का दावा कर दिया है, तो बीजेपी और कांग्रेस दोनों ने प्रदेश में किसी तीसरी पार्टी के अस्तित्व को ही नकार दिया है.

साल 2000 में प्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री बने अजीत जोगी अब प्रदेश के 5वें मुख्यमंत्री बनने के लिए बेकरार नज़र आ रहे हैं. हालांकि इस बार वो अपनी पार्टी के साथ बीएसपी की भी ताकत लेकर मैदान में उतरे है. लिहाजा, पार्टी द्वारा लगातार दौरे, रोड शो, सभाएं की जा रही हैं. जोगी हर जगह छत्तीसगरिहा की भावना को ऊपर रख रहे हैं. अपने शपथ पत्र में जोगी ने 20 लाख बेरोजगारों को, किसानों को और बेटियों को खास पैकज देने का वादा किया है.

अजीत जोगी को पूरा भरोसा है कि इस शपथ पत्र की घोषणाओं से वे बड़ा फर्क लाने में कामयाब होंगे और बीएसपी का साथ मिलने से उनका मुख्यमंत्री बनाना तय है. हालांकि जगह-जगह से पार्टी में फूटते असंतोष की खबरे भी हैं. बावजूद इन सबके जोगी बार-बार कहते है कि मुख्यमंत्री मैं ही बनूंगा.

जोगी का सीधा मुकाबला सत्तारूढ़ बीजेपी और कांग्रेस जैसी धाकड़ पार्टियों से है. जोगी के दावों पर दोनों बड़े दलों की एक जैसी प्रतिक्रिया है. बीजेपी और कांग्रेस ने प्रदेश में किसी तीसरी पार्टी के अस्तित्व से ही इनकार कर दिया है.

बहरहाल, जोगी सीएम बनेंगे या 4-6 सीटों में सिमट जाएंगे, वो तो आगामी 12 दिसंबर को ही साफ हो पाएगा. हालांकि जोगी और बीएसपी के गठबंधन से आगामी चुनाव दिलचस्प जरूर रहेगा.

Source : Agency