मथुरा
मथुरा शिक्षक घोटाले में पुलिस को एक और बड़ी सफलता हाथ लगी है। घोटाले के फरार चल रहे 20 हजार रुपए के ईनामी मास्टर माइंड श्यामवीर को पुलिस ने दबोचा है। श्यामवीर की गिरफ्तारी के बाद कई और राज उजागर होने के कयास लगाए जा रहे हैं। उसके खिलाफ  बीएसए ने एफआईआर लिखवाई थी। आरोप है कि 12,460 में 34 लोगों की फर्जी तरीके से भर्ती कराई गई। इसी तरह 29,334 भर्तियों में 110 को फर्जी शिक्षक बनवा दिया।

इसी मामले पर एसटीएफ ने 23 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई। फर्जी शिक्षक भर्ती घोटाले के मामले में 17 आरोपियों को जेल भेजा जा चुका है। मास्टर माइंड श्यामवीर फरार था। उस पर 20 हजार रुपए का ईनाम भी जारी कर दिया गया था। मास्टर माइंड की गिरफ्तारी के लिए स्वॉट टीम और शहर कोतवाली पुलिस ने संयुक्त रूप से जाल बिछाया। इसमें ईनामी श्यामवीर फंस गया। ये गिरफ्तारी पुलिस के लिए बड़ी सफलता है। आरोपी श्यामवीर पर मथुरा सहित प्रदेश के कई जनपदों में फर्जी शिक्षक भर्ती कराने का भी आरोप है। पुलिस को पूछताछ के बाद कई अहम जानकारी मिलने की भी उम्मीद है।

फर्जी शिक्षकों पर अभी दर्ज नहीं हो सकी एफआईआर
जिन शिक्षकों ने धोखाधड़ी कर नौकरी हासिल की उनके खिलाफ  रिपोर्ट अभी तक दर्ज नहीं हो सकी है। बीएसए ने उन प्रधानाध्यापकों को इन शिक्षकों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज कराने का आदेश दिया था जिनके विद्यालयों में इन्होंने नियुक्ति ली। दबाव बनाने के लिए इन प्रधानाध्यापकों को निलंबित भी कर दिया गया था, तमाम दबाव के बाद भी प्रधानाध्यापक इसके लिए राजी नहीं हुए हैं, जबकि बीएसए अपनी तरफ से रिपोर्ट कराने से बच रहे हैं।

Source : Agency