भुवनेश्वर
अंतरराष्ट्रीय स्तर पर और घरेलू हॉकी में भी हमेशा एक दूसरे के साथ खेलने वाले धनराज पिल्लै और दिलीप टिर्की विश्व कप के मेजबान कलिंगा स्टेडियम में आज दिग्गजों के इस प्रदर्शनी मैच में एक दूसरे के खिलाफ खेलते दिखेंगे। हॉकी के नए गढ़ भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम पर 28 नवंबर से 16 दिसंबर के बीच विश्व कप का आयोजन होना है। हॉकी के महासमर के लिए नए सिरे से सजाए गए कलिंगा स्टेडियम के उद्घाटन के मौके पर अपनी तरह के इस अनूठे मुकाबले में मौजूदा खिलाड़ियों के साथ भारतीय हॉकी के कई दिग्गज अर्से बाद अपने हुनर का जौहर दिखाते नजर आएंगे।

करिश्माई स्ट्राइकर धनराज पिल्लै की टीम में गोलकीपर पी आर श्रीजेश, पूर्व कप्तान वीरेन रासकिन्हा, सरदार सिंह, ड्रैग फ्लिकर संदीप सिंह, फारवर्ड एस वी सुनील जैसे धुरंधर हैं। राष्ट्रीय टीम के कोच हरेंद्र सिंह इस टीम के कोच हैं। वहीं टिर्की की टीम के कोच क्रिस सिरिएलो हैं जबकि टीम में इग्नेस टिर्की, वी आर रघुनाथ, दीपक ठाकुर, रूपिंदर पाल सिंह जैसे कई सितारे हैं। इस मैच के बारे में धनराज ने कहा ,‘ इतने समय बाद पुराने दोस्तों के साथ खेलना रोमांचक होगा।मुझे उम्मीद है कि हम हॉकी प्रेमियों की अपेक्षाओं पर खरे उतर सकेंगे। देखते हैं कि धनराज पिल्लै का पुराना जादू बरकरार है या नहीं।'

मजे की बात यह है कि धनराज और दिलीप टिर्की ने अपने करियर में पीएचएल को छोड़कर कभी एक दूसरे के खिलाफ नहीं खेला। दोनों भारतीय टीम के लिए साथ खेले और घरेलू हॉकी में एयरलाइंस के लिए एक साथ खेलते आए। अपने समय में भारतीय हॉकी की दीवार कहे जाने वाले महान डिफेंडर टिर्की ने कहा ,‘मुझे याद नहीं कि हम दोनों एक दूसरे के खिलाफ कब खेले थे। शायद पीएचएल में कोई मैच खेला हो। इस तरह से यह अनूठा मुकाबला है और उनके खिलाफ खेलना काफी रोमांचक होगा।’

नौ बरस पहले पैर की चोट के कारण हॉकी को अलविदा कहने वाले टिर्की इतने साल में पहली बार पूरा मैच खेलेंगे हालांकि यह मैच 30 मिनट का ही होगा।उन्होंने कहा ,‘‘ पिछले दस दिन से मैं इसके लिए अभ्यास कर रहा हूं ताकि इतने खूबसूरत स्टेडियम पर हॉकी के शौकीन दर्शकों के सामने अच्छा प्रदर्शन कर सकूं। उम्मीद है कि सभी खिलाड़ी उम्मीदों पर खरे उतरेंगे।’

पूर्व कप्तान रासकिन्हा ने कहा कि विश्व कप के प्रचार का यह बेहतरीन तरीका है। उन्होंने कहा ,‘यह वाकई टूर्नमेंट के प्रचार का अनूठा तरीका है। मुझे खुशी है कि दिलीप, धनराज, दीपक, इग्नेस , संदीप जैसे कई पुराने साथी खिलाड़ियों से मिलने और उनके साथ खेलने का मौका मिलेगा।’

उन्होंने कहा, ‘भुवनेश्वर से बेहतर हॉकी खेलने के लिए कौन सी जगह हो सकती है। तीन साल बाद हॉकी स्टिक थामने जा रहा हूं और खचाखच भरे स्टेडियम में खेलने का मजा ही कुछ और होगा।’ शाम सात बजे शुरू होने वाला यह मैच 60 की जगह तीस मिनट का होगा और 15 . 15 मिनट के दो हाफ होंगे।

Source : Agency