नई दिल्ली
प्रशासकों की समिति (CoA) बुधवार को यहां जब भारत के मुख्य कोच और कप्तान विराट कोहली के अलावा चयन समिति के साथ बैठक करेगी, तो खिलाड़ियों और चयनकर्ताओं के बीच संवाद का मुद्दा और ऑस्ट्रेलिया दौरे की रूपरेखा उसके अजेंडे में शीर्ष पर होंगे। हैदराबाद में होने वाली इस बैठक में कई और अहम मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। इसमें केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों के लिए आचार संहिता और अतिरिक्त सहायक स्टाफ की जरूरत प्रमुख हैं।

भारत के उपकप्तान अजिंक्य रहाणे भी इस चर्चा का हिस्सा होंगे। बड़ा मुद्दा टीम प्रबंधन, चयनकर्ताओं और टीम से बाहर किए गए खिलाड़ियों के बीच संवाद प्रणाली है। हाल में करुण नायर और मुरली विजय ने कहा था कि चयनकर्ताओं या टीम प्रबंधन ने उन्हें टीम से बाहर करने को लेकर कोई जानकारी नहीं दी। चयन समिति के अध्यक्ष एमएसके प्रसाद और सीओए प्रमुख विनोद राय ने हालांकि इन आरोपों को खारिज किया।

प्रसाद ने कहा कि उनके साथी चयनकर्ता देवांग गांधी ने संबंधित खिलाड़ियों से बात की, जबकि भारतीय कप्तान विराट कोहली इस मुद्दे पर टिप्पणी करने से बचे। चयन समिति पर विजय और नायर के सार्वजनिक बयानों को हालांकि केंद्रीय अनुबंधित खिलाड़ियों की आचार संहिता का उल्लंघन माना जा रहा है।

बीसीसीआई के एक अधिकारी ने बताया, 'बेशक यह मुद्दा बैठक में उठाया जाएगा। बीसीसीआई कहता आया है कि विजय ने सही तस्वीर पेश नहीं की। गांधी ने टीम मैनेजर सुनील सुब्रमण्यम की मौजूदगी में चयनकर्ताओं की स्थिति से विजय को अवगत कराया था।' कप्तान कोहली ने आग्रह किया है कि विदेशी दौरे के दौरान पूरे समय खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ की पत्नियों को आने की स्वीकृति दी जाए। लेकिन इस पर तुरंत फैसला लिए जाने की संभावना नहीं है।

मुख्य मुद्दा ऑस्ट्रेलिया दौरे की तैयारी है, जिसकी शुरुआत 21 नवंबर को 3 मैचों की T20 सीरीज के साथ होगी। मुख्य चर्चा हालांकि चार टेस्ट मैचों की सीरीज पर केंद्रित होगी, जिसकी शुरुआत 6 दिसंबर से एडिलेड में होगी। बेहतर तैयारी के लिए भारतीय टीम प्रबंधन पहले टेस्ट से पूर्व अतिरिक्त अभ्यास मैच की मांग कर चुका है।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है और अतिरिक्त अभ्यास मैच का इंतजाम करने की प्रक्रिया पर काम कर रहा है। ऑस्ट्रेलिया सीरीज की तैयारी के लिए अजिंक्य रहाणे, चेतेश्वर पुजारा जैसे टेस्ट विशेषज्ञों के भारत A टीम के साथ न्यू जीलैंड दौरे पर जाने की उम्मीद है। भारतीय टीम के साथ विशेषज्ञ स्पिन गेंदबाजी कोच को जोड़ने पर भी बात चल रही है क्योंकि धीमे गेंदबाजों को उपमहाद्वीप के बाहर जूझना पड़ा है। लक्ष्मण शिवरामकृष्णन और एनसीए के मौजूदा कोच नरेंद्र हिरवानी के नाम की चर्चा है लेकिन इसके लिए पहले सीओए से स्वीकृति लेनी होगी।

Source : Agency