बीजिंग
अर्जेंटीना के जुआन मार्टिन डेल पोत्रो को बीमार होने के कारण रविवार को चीन ओपन फाइनल में जॉर्जिया के गैर वरीय निकोलोज बासिलाशविली से 4-6, 4-6 से हारकर उलटफेर का सामना करना पड़ा। पिछले महीने यूएस ओपन के फाइनल में पहुंचे डेल पोत्रो मैच के दौरान बुखार और जुकाम से जूझ रहे थे।

बासिलाशविली के करियर का यह दूसरा खिताब है, उन्होंने जुलाई में हैम्बर्ग में पहला एटीपी खिताब जीता था। पोत्रो ने पहले सेट में संघर्ष किया लेकिन वह 4-6 से हारने के बाद दूसरा सेट भी इसी अंतर से हार गए।

डेनमार्क की दूसरे नंबर की खिलाड़ी कैरोलिन वोज्नियाकी ने फाइनल में लात्विया की अनास्तासिया सेवास्तोवा पर 6-3, 6-3 से जीत दर्ज कर 30वां डब्ल्यूटीए एकल खिताब अपनी झोली में डाला। वोज्नियाकी का यह दूसरा चीन ओपन खिताब है। डेनमार्क की इस स्टार ने कहा कि उन्होंने अपने बचपन का सपना पूरा किया।

28 साल की इस खिलाड़ी ने साल के शुरू में ऑस्ट्रेलिया ओपन जीतकर अपना पहला ग्रैंडस्लैम हासिल किया था। उन्होंने साल 2010 में भी चीन ओपन खिताब पर कब्जा जमाया था।

Source : Agency