10 अक्टूबर 2018, बुधवार से नवरात्रि प्रारंभ हो रही है, जो 18 अक्टूबर 2018, शुक्रवार तक रहेगी. नवरात्रि में कलश स्थापना का खास महत्व होता है. इसलिए इसकी स्थापना सही और उचित मुहूर्त में ही करनी चाहिए. आइए जानते हैं नवरात्रि घटस्थापना के सबसे श्रेष्ठ और उत्तम मुहूर्त कौन से हैं. घटस्थापना मुहूर्त प्रतिपदा तिथि को किया जाएगा. यह चित्रा नक्षत्र और वैधृति योग में संपन्न होगा.

नवरात्रि कलश(घट) स्थापना शुभ मुहूर्त 10 अक्टूबर 2018 को बुधवार के दिन होगा-

कलश स्थापना मुहूर्त: सुबह 06:22 से 07:25 तक.
मुहूर्त की अवधि: 01 घंटा 02 मिनट तक रहेगी.

प्रतिपदा तिथि का आरंभ: 9 अक्टूबर 2018, मंगलवार 09:16 बजे.
प्रतिपदा तिथि समाप्त: 10 अक्टूबर 2018, बुधवार 07:25 बजे.

 
अगर इस दौरान किसी वजह से आप कलश स्‍थापित नहीं कर पाते हैं, तो 10 अक्‍टूबर को सुबह 11:36 बजे से 12:24 बजे तक अभिजीत मुहूर्त में भी कलश स्‍थापना कर सकते हैं.

ध्‍यान रहे कि शास्‍त्रों के अनुसार, अमावस्‍यायुक्‍त शुक्‍ल प्रति‍पदा मुहूर्त में कलश स्‍थापित करना वर्जित होता है. इसलिए किसी भी हाल में 9 अक्‍टूबर को कलश स्‍थापना नहीं होगी.

नवरात्रि में दीपक जलाए रखने से घर-परिवार में सुख-शांति और पितृ शांति रहती है.

नवरात्रि में घी और सरसों के तेल का अखंड दीपक जलाने से त्वरित शुभ कार्य सिद्ध होते हैं.
 
नवरात्रि में विद्यार्थियों को सफलता के लिए घी का दीपक जलाना चाहिए.

अगर आप वास्तु दोष से परेशान हैं तो उसे दूर करने के लिए वास्तु दोष वाली जगह पर तिल के तेल का दीपक जलाकर रखना चाहिए.

शनि के कुप्रभाव से मुक्ति के लिए नवरात्रि में तिल के तेल की अखंड जोत शुभ मानी जाती है.

Source : Agency