भोपाल
 बिहार के मुजफ्फरपुर और उप्र के देवरिया में बालिका गृह में यौन शोषण का मामला उजागर होने के बाद मप्र सरकार विशेष सतर्कता बरत रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग ने बालिका गृहों में सिर्फ महिला अफसरों द्वारा निरीक्षण कराने के निर्देश दिए हैं। साथ ही ऐसी संस्थाओं के निरीक्षण के लिए मुख्यालय में पदस्थ महिला अफसरों की ड्यूटी लगा दी है।

ये अफसर 18 अगस्त तक निरीक्षण रिपोर्ट विभाग के आयुक्त को सौंपेंगी। निरीक्षण के दौरान अफसरों से बालिकाओं के साथ संस्थाओं में होने वाले व्यवहार का पता लगाने को कहा है। साथ ही उन्हें संस्था के वातावरण का आकलन कर रिपोर्ट में टीप करना होगी।

बिहार व उत्तर प्रदेश की घटनाओं को लेकर देशभर में दोनों राज्यों की सरकारों की कार्यप्रणाली पर सवाल उठ रहे हैं। विधानसभा चुनाव के पहले मप्र में ऐसी किसी भी घटना को लेकर सरकार बदनामी नहीं चाहती है। इसलिए बाल सम्प्रेक्षण गृह, बालक-बालिका गृह, महिला वसतिगृह, पश्च्यातवर्ती गृह सहित महिलाओं-बालिकाओं के निवास स्थानों की सुरक्षा और निरीक्षण के आदेश दिए गए हैं।

Source : Agency