बंगलूरू
कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने अपने खिलाफ दर्ज मामले को खत्म करवाने के लिए हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। एंटी करप्शन ब्यूरो ने येदियुरप्पा के खिलाफ कथित भूमि अधिसूचना रद्द करने के खिलाफ केस दर्ज किया है। भाजपा ने एसीबी के दुरुपयोग के लिए मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के इस्तीफे की मांग की है।
कथित भ्रष्टाचार मामले में एसीबी द्वारा पेश होने के निर्देश मिलने के बाद येदियुरप्पा ने शनिवार को हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। आरोप है कि मुख्यमंत्री रहते हुए 2008 से 11 के बीच उन्होंने बंगलूरू विकास प्राधिकरण को नजरअंदाज करके 257 एकड़ भूमि की अधिसूचना रद्द कर दी थी।

सामाजिक संगठन जन सामान्य वेदिके की शिकायत के बाद भाजपा नेता के खिलाफ दो एफआईआर दर्ज कराई गई है। अपनी याचिका में उन्होंने आरोप लगाया है कि राज्य में विपक्षी नेताओं के खिलाफ एसीबी का दुरुपयोग किया जा रहा है।

उन्होंने आरोप लगाया कि यह सब इसलिए हो रहा है, क्योंकि हाल में कर्नाटक के कांग्रेस नेता और ऊर्जा मंत्री डी के शिवकुमार के कई ठिकानों पर आयकर विभाग ने छापेमारी की थी।

उधर कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने भाजपा के उस आरोप को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया है कि सरकार विपक्षी नेताओं के खिलाफ एसीबी को हथियार के तौर पर इस्तेमाल कर रही है। मुख्यमंत्री ने दृढ़तापूर्वक कहा कि एंटी करप्शन ब्यूरो ने मेरिट के आधार पर युदियुरप्पा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है।

Source : Agency