नई दिल्ली 
बांग्लादेश नैशनलिस्ट पार्टी (BNP) की नेता और पूर्व पीएम खालिदा जिया के फॉरेन लीगल कंसल्टेंट लॉर्ड अलेक्जेंडर कार्लाइल को भारत से लौटा दिया गया है। भारत सरकार ने इसकी पुष्टि भी कर दी है। विदेश मंत्रालय ने कहा है कि ब्रिटिश नागरिक कार्लाइल उचित भारतीय वीजा हासिल किए बिना 11 जुलाई को लंदन से दिल्ली आए थे। भारत में उनकी इच्छित गतिविधि वीजा में उल्लेखित यात्रा के उद्देश्य से मेल नहीं खा रही थी।  
 

विदेश मंत्रालय ने कहा कि इसी वजह से उन्हें अराइवल के बाद भारत में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई। बांग्लादेशी मीडिया की रिपोर्ट्स के मुताबिक कार्लाइल दिल्ली में खालिदा जिया की लीगल टीम और बीएनपी के टॉप सदस्यों के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले थे। यह प्रेस कॉन्फ्रेंस 'फॉरेन कॉरेस्पॉन्डेंट्स क्लब ऑफ साउथ एशिया' में होनी थी।

ढाका ट्राइब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक कार्लाइल द्वारा अपनी क्लाइंट खालिदा जिया की जेल की सजा पर चर्चा की उम्मीद थी। जिया को यह सजा जिया अनाथालय ट्रस्ट करप्शन केस में मिली है। इससे पहले शेख हसीना की सरकार ने भी कार्लाइल को बांग्लादेश में एंट्री करने की अनुमति नहीं दी थी। 

बीएनपी ने जिया पर कथित फर्जी केस चलाने के लिए भारत पर भी आरोप लगा रखा है। ब्रिटेन के हाउस ऑफ लॉर्ड्स के सदस्य कार्लाइल ने कहा कि ढाका में आने की अनुमति नहीं मिलने के बाद वह भारत में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इंटरनैशनल मीडिया कम्युनिटी को खालिदा जिया मामले की जटिलताओं की जानकारी देना चाहते थे। 

Source : Agency