थाईलैंड

थाइलैंड की गुफा में फंसे सभी 12 बच्चों और उनके कोच को निकाल लिया गया है। पिछले दो हफ्ते से गुफा में फंसे बच्चों और कोच को निकालने के लिए युद्धस्तर पर रेस्क्यू ऑपरेशन चल रहा था। पूरी दुनिया में फुटबॉलर बच्चों और उनके कोच के लिए दुआ की जा रही थी।मंगलवार को सभी बच्चे और कोच को सुरक्षित निकालने की खबर आई है। गोताखोरों और बचाव कर्मियों ने थाइलैंड में एक बार फिर ऑपरेशन शुरू किया था।  
गंजापन दूर करने का नेचुरल नुस्खा

थाइ नेवी सील यूनिट अपने आधिकारिक फेसबुक पेज पर कहा, 'सभी 12 बच्चों और उनके कोच को गुफा से बाहर निकाल लिया गया है। वे सभी सुरक्षित हैं।' गौरतलब है कि 23 जून को 

25 साल के कोच एकापोल चानथ्वॉन्ग 11 से 16 साल के बच्चों की टीम 'वाइल्ड बोर्स' के साथ प्रैक्टिस करके लौट रहे थे। तभी भारी बारिश के कारण वे इस गुफा में अंदर आ गए। ज्यादा बारिश के कारण गुफा में पानी भर गया और वे सभी फंस गए। एकापोल वाइल्ड बोर्स टीम के असिस्टेंट कोच हैं। 

इससे पहले सोमवार तक गुफा से 8 बच्चों को बाहर निकाल लिया गया था, लेकिन कोच सहित 5 लोग गुफा में 4 किलोमीटर अंदर फंसे हुए थे। इनमें से 2 और बच्चों को सुबह निकाल लिया गया था। स्थानीय मीडिया में ऐसी रिपोर्ट्स है कि बच्चों की सेहत ठीक है, लेकिन 2 बच्चों को न्यूमोनिया हो गया है। 

मिशन में जुटे अधिकारियों ने बताया कि बच्चे बाहर निकलकर बेहद खुश हैं। बच्चे भूखे हैं और मनपसंद डिश खाना चाहते हैं। कुछ बच्चों ने पसंदीदा ब्रेड और चॉकलेट की भी मांग की। हालांकि, बच्चों को सिर्फ तरल पौष्टिक आहार ही दिया जा रहा है। 


मिशन के चीफ नारोंगसक ओसोतोकोर्न ने सोमवार को बताया था कि तीसरे अभियान को शुरू करने के लिए कम से कम 20 घंटे का समय चाहिए, लेकिन यह समय मौसम और पानी के स्तर के हिसाब से बदल सकता है। उन्होंने यह भी बताया था कि बच्चों को उनके माता-पिता से फिलहाल दूर रखा जाएगा क्योंकि स्वास्थ्य अधिकारियों को अभी संक्रमण का खतरा दिख रहा है। 

थाइलैंड के बच्चों और फुटबॉल कोच की सुरक्षित वापसी के लिए दुनियाभर में प्रार्थना हो रही थी। वहीं, दुनिया के कई देशों के गोताखोर और विशेषज्ञ बच्चों को सलामत निकालने के अभियान में थाईलैंड सरकार की मदद कर रहे थे। थाईलैंड के प्रधानमंत्री ने भारत का भी खास तौर पर शुक्रिया अदा करते हुए कहा था कि भारतीय दूतावास से लगातार समर्थन मिल रहा है और भारत में हमारे बच्चों के लिए दुआ की जा रही है। भारतीयों के प्रति आभारी हैं। 

Source : agency