हजारीबाग 
मॉब लिंचिंग के आरोपियों को माला पहनाने और लडडू खिलाने पर चौतरफा आलोचनाओं से घिरे केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने सफाई पेश की है। जयंत सिन्हा ने कहा कि कानून अपना काम करेगा। जो आरोपी हैं उन्हें सजा मिलेगी और जो निर्दोष होंगे वह मुक्त होंगे। उन्होंने यह भी कहा कि किसी को कानून हाथ में लेने का अधिकार नहीं है। बता दें कि पिछले साल रामगढ़ में एक मीट कारोबारी मोहम्मद अलीमुद्दीन की भीड़ ने गोहत्या के शक में पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। इस मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट ने इसी साल मार्च महीने में 11 लोगों को दोषी करार दिया था लेकिन पिछले हफ्ते रांची हाई कोर्ट ने उनमें से 8 की उम्रकैद की सजा पर रोक लगाकर जमानत पर रिहा कर दिया। इसके बाद ये सभी नागरिक उड्डयन मंत्री जयंत सिन्हा के हजारीबाग स्थित आवास पहुंचे। यहां जयंत ने उन्हें गले में माला पहनाकर स्वागत किया और मिठाई भी खिलाई। इसकी तस्वीर सामने आने के बाद जयंत सिन्हा की हर ओर आलोचना होने लगी। इस पर केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने अपनी सफाई में कहा, 'जब उन लोगों को जमानत मिली तो वह मेरे घर आए। मैंने उन सभी को बधाई दी। भविष्य में कानून को उसका काम करने दें। जो आरोपी हैं उन्हें सजा मिलेगी और जो निर्दोष होंगे वह मुक्त होंगे।' 

न्यायपालिका पर है भरोसा- जयंत 
उन्होंने आगे कहा, 'मुझे हमारी न्यायपालिका पर पूरा भरोसा है। दुर्भाग्यवश मेरे काम को लेकर गैर-जिम्मेदाराना बयान दिए जा रहे हैं। जबकि मैं कानून की उचित प्रक्रिया का सम्मान कर रहा हूं। जो निर्दोष हैं वह छोड़ दिए जाएंगे और जो दोषी होंगे उन्हें कड़ी सजा मिलेगी।' उन्होंने यह भी कहा कि रामगढ़ केस में रांची हाई कोर्ट ने आरोपियों की सजा खारिज कर उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया था। केस दोबारा से खुलेगा और उस पर सुनवाई की जाएगी। 

'कानून हाथ में लेने का अधिकार नहीं' 
जयंत सिन्हा ने कहा, 'मैंने अपना मत पहले ही साफ कर दिया है। आरोपियों को जरूर सजा मिलनी चाहिए। मैं एक जन प्रतिनिधि हूं और एक नेता हूं। मैंने कानून की सुरक्षा के लिए शपथ ली है। किसी को कानून हाथ में लेने का अधिकार नहीं है।' जयंत सिन्हा की आरोपियों के साथ तस्वीर सामने आने के बाद विपक्ष के नेताओं ने उन पर हमला बोला। 

विपक्ष का हमला 
झारखंड में विपक्ष के नेता हेमंत सोरेन ने कहा, 'यह बेहद घिनौना है। हार्वर्ड आपके एक पूर्व छात्र जयंत सिन्हा लिंचिंग के आरोपियों का सम्मान कर रहे हैं।' वहीं सीपीआई (एम) नेता सीताराम येचुरी ने ट्वीट किया, 'जब केंद्रीय मंत्री लिंचिंग के दोषियों पर कृपा दिखा रहे हैं तो हमें यह देखने के लिए बहुत दूर तक जाने की जरूरत नहीं कि कौन सी विचारधार हमारे समाज के ताने-बाने को तोड़ रही है।' 

कांग्रेस ने पूछा- किस तरह के जनप्रतिनिधि हैं आप 
यूथ कांग्रेस ने लिखा, '10 राज्यों में 27 लोगों की भीड़ द्वारा हत्या हो चुकी है और यहां एक बीजेपी लॉमेकर जयंत सिन्हा लिंचिंग के दोषियों का माला और मिठाई के साथ खुशी-खुशी स्वागत कर रहे हैं। आप किस तरह के जनप्रतिनिधि हैं।' बता दें कि हजारीबाग के रहने वाले मोहम्मद अलीमुद्दीन का मीट का कारोबार था। वह एक मारुति वैन से रामगढ़ से गुजर रहे थे, जब कुछ लोगों ने उनकी गाड़ी रोक ली और पीट-पीटकर उनकी हत्या कर दी थी। इस दौरान उनकी वैन भी जला दी गई थी। 

Source : agency