नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चिट्ठी को लेकर दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी ने केजरीवाल पर  निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि केजरीवाल ड्रामा कर रहे हैं. यह शुरू से ही बड़े- बड़े नाटक करते रहे हैं. ये स्क्रिप्ट लिखते हैं. खुद लीड रोल में भी रहते हैं. खुद ही ड्रेस भी डिजाइन करते हैं. मनोज तिवारी ने कहा कि साढ़े 3 साल के बाद इनको लगता है कि दिल्ली को पूर्ण राज्य नहीं मिला. इसलिए काम नहीं कर पाए. उन्होंने कहा, 'दिल्ली की जनता पानी के लिए एक हाथ में बाल्टी दूसरे हाथ में डंडे लेकर अरविंद केजरीवाल को ढूंढ रही है. उन्होंने कहा कि जिस कॉलोनी में हम जा रहे हैं एक ही पीड़ा की हाहाकार है. पानी की चीत्कार है.'

उन्होंने कहा कि केजरीवाल सारा दोष किस पर मड़ रहे हैं. 1993 जब खुराना मुख्यमंत्री थे और पी वी नरसिम्हा राव प्रधानमंत्री थे कोई समस्या नहीं हुई. 1998 में शीला दीक्षित मुख्यमंत्री थी और अटल बिहारी वाजपेई प्रधानमंत्री थे कोई दिक्कत नहीं हुई. दिल्ली चलती रही चाहे उसकी स्पीड जो भी रही. दिल्ली को पहली बार साढ़े तीन साल के कार्यकाल में 10 साल पीछे किया है. मनोज तिवारी ने कहा, 'मुख्य सचिव को थप्पड़ मारने वाले ये. अपने सारे कुनबे में अपराधियों को संरक्षण देने वाले, गुंडागर्दी पर उतारू और बदतमीजी यह सारे शब्द इन पर आज सिद्ध हो जाते हैं. इनकी फोटो देखिए किस ढंग से LG के दफ्तर में बैठे हुए हैं. दिल्ली का अभिशाप है. इनका प्रधानमंत्री को चिट्ठी लिखना है ध्यान भटकाने की कला है. आम आदमी पार्टी का नाम ही अगर ध्यान भटकाऊ पार्टी रख लें तो ज्यादा बेहतर होगा. क्योंकि सारी असफलताओं को छुपाने के लिए दूसरा नाटक करते हैं.

IAS अफसर की हड़ताल खत्म कराने पर मनोज तिवारी का कहना है कि अरविंद केजरीवाल ने जो अपराध किया है उसके लिए तो उनको ब्यूरोक्रेट्स के साथ बैठकर सेटल करना चाहिए. आउट ऑफ कोर्ट सब से माफी मांग चुके हैं. लेकिन वह ब्यूरोक्रेट्स को सम्मान देना ही नहीं चाहते.

Source : agency