कोझिकोड 
पूर्वोत्तर के राज्यों के साथ ही केरल में भारी बारिश के बाद तबाही का मंजर है। पिछले 24 घंटों से हो रही बारिश के बाद राज्य में तीन लोगों को जान गंवानी पड़ी है। केरल के कोझिकोड में भारी बारिश के बाद भूस्खलन की घटनाएं सामने आई हैं। यहां बाढ़ के पानी में कई लोग फंसे हुए हैं, जिनको बचाने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है। केरल में दो हफ्ते पहले ही दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के सक्रिय होने के बाद भारी बारिश हो रही है। कोझिकोड में बुधवार से हो रही बारिश के बाद लैंडस्लाइड की वजह से तीन लोगों की मौत हो गई है, जबकि 8 लोग फंसे हुए हैं। लगातार हो रही बारिश के बाद यहां के कट्टीपारा इलाके में बाढ़ के पानी के तेज बहाव का एक विडियो भी सामने आया है। इस विडियो में खतरनाक तरीके से पानी का उफान देखा जा सकता है। 

पानी में फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने के लिए सर्च और रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है। इस बीच केरल के सीएम पी विजयन भी हालात पर पैनी नजर बनाए हुए हैं। सीएम ने राज्य के मुख्य सचिव और जिला कलेक्टरों को बाढ़ और भूस्खलन प्रभावित इलाकों में तत्काल कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। 

कर्नाटक में भारी बारिश, डैम भरे 
केरल के साथ ही दक्षिण भारत के एक और राज्य कर्नाटक में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित हुआ है। शिवमोगा, कोडागू और चिकमंगलुरु जिलों में हुई बारिश के बाद सभी प्रमुख नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। कई इलाकों में लैंडस्लाइड की खबर है। कर्नाटक स्टेट नैचरल डिजास्टर मॉनिटरिंग कमिटी (केएसएनडीएमसी) के डायरेक्टर श्रीनिवास रेड्डी का कहना है कि आम तौर पर जुलाई के आखिर में राज्य के डैम पानी से भरते थे लेकिन अगर इसी तरह बारिश होती रही तो जून के अंत तक ही डैम भर जाएंगे। यह किसानों के साथ ही पानी के संकट से जूझ रहे करोड़ों लोगों के लिए अच्छी खबर है। 

केएसएनडीएमसी अधिकारी का कहना है, 'लिंगानामक्की डैम में रेकॉर्ड मात्रा में पानी पहुंचा है। इससे उम्मीद है कि आने वाले जाड़े और गर्मी में बिजली का संकट नहीं रहेगा।' केरल के वायानाड़ और प्रदेश के कोडागू जिले में भारी बारिश के बाद दक्षिण कर्नाटक की दो प्रमुख नदियां कावेरी और कपिला उफान पर हैं। एक जून से वायनाड़ इलाके में हुई 214 मिलीमीटर बारिश के बाद दोनों नदियों में बाढ़ जैसे हालात हैं। 

Source : agency