नई दिल्ली
 भारत की चैस स्टार सौम्या स्वामीनाथन ने हिजाब पहनने की अनिवार्यता पर विरोध जताते हुए अगले महीने ईरान में होने वाले चैस टूर्नामेंट से खुद को बाहर कर लिया है। इस बात की जानकारी उन्होंने अपने फेसबुक अकाउंट के जरिए दी। उन्होंने लिखा कि हिजाब पहने की जबरदस्ती उनके मानवाधिकारों के खिलाफ है। यह टूर्नामेंट 26 जुलाई से 4 अगस्त के बीच होने वाला है। 

सौम्या ने अपनी पोस्ट पर लिखा, " मुझे जबरदस्ती हिजाब पहनने के लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा करना मेरे मानवाधिकार का उल्लंघन है। इसके साथ ही मेरे बोलने, सोचने और धर्म को मानने के अधिकारों का भी उल्लंघन हो रहा है। अपने अधिकारों की रक्षा करने के लिए मुझे ईरान नहीं जाना चाहिए।"

टूर्नामेंट का हिस्सा ना होने से सौम्या निराश
उन्होंने साथ ही यह भी कहा, "मै समझ सकती हूं कि आयोजक चाहते हैं कि खिलाड़ी किसी भी चैम्पियनशिप में अपने देश की औपचारिक यूनिफॉर्म के साथ ही देश का प्रतिनिधित्व करें, लेकिन इस तरह से किसी धर्म से जुड़ी पोशाक को जबरदस्ती पहनाने का कोई नियम नहीं है।" सौम्या ने बताया कि उन्हें इतने अहम टूर्नामेंट में हिस्सा न ले पाने का बहुत दुख है। उन्होंने कहा कि कुछ बातों के लिए कॉम्प्रोमाइज़ नहीं करना चाहिए।

इस खिलाड़ी ने भी हिजाब पहनने से किया था मना
यह पहली दफा नहीं है जब कोई महिला खिलाड़ी ईरान में होने वाले टूर्नामेंट से हिजाब पहनने की मजबूरी की वजह से बाहर निकली हो। इससे पहले भी 2016 में भारत की पिस्टल शूटर हिना सिंधू ने ईरान में होने वाले एशियन एयरगन शूटिंग चैम्पियनशिप से अपने आप को अलग कर लिया था।

Source : Agency