बेंगलुरु

भारत भले ही डे नाइट टेस्ट खेलने के लिए तैयार नहीं है लेकिन भारतीय सरजमीं पर ही इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने क्रिकेट के इस फॉर्मेट को बचाने के लिए डे-नाइट क्रिकेट की वकालत की है.

बेंगलुरु में मंगलवार को आयोजित एमएके पटौदी व्याख्यान में संबोधन देने वाले पहले विदेशी खिलाड़ी पीटरसन ने कहा, ‘अगर हम चाहते हैं कि क्रिकेटर पांच दिवसीय क्रिकेट खेले तो हमें उन्हें अच्छे पैसे देने होंगे. हम उन्हें कैसे दें, इसके लिये टेस्ट क्रिकेट में बदलाव की जरूरत है, पांचों दिन रोमांच हो.’

पीटरसन ने कहा कि दिन रात के मैचों ने दिखाया है कि कैसे उतार चढ़ाव आ सकते हैं. आईपीएल उस समय नहीं खेला जाता जब उसके धुर प्रशंसक काम पर रहते हैं, टेस्ट क्रिकेट में भी ऐसा ही होना चाहिये. उन्होंने कहा कि टेस्ट क्रिकेट की मार्केटिंग बेहद जरूरी है.

पीटरसन ने कहा कि सीमित ओवरों के क्रिकेट की बजाय सफेद जर्सी में खेलने के दौरान अनमोल यादें बनती हैं. उन्होंने कहा हर खिलाड़ी कई वनडे मैच खेलता है लेकिन जब हम उनकी असाधारण उपलब्धियों की बात करते हैं तो टेस्ट क्रिकेट का प्रदर्शन ही ध्यान में आता है.

हैंसी क्रोनिए को बताया महान

पीटरसन ने टेस्ट क्रिकेट की प्रासंगिकता पर जोर देते हुए अपने संबोधन में कहा कि सचिन तेंदुलकर, शेन वॉर्न, मैल्कम मार्शल, स्टीव वॉ, रिचर्ड हैडली, कपिल देव महान लेकिन विवादास्पद दिवंगत हैंसी क्रोनिए भी महान खिलाड़ी थे.

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान हैंसी क्रोनिए ने साल 2000 में स्वीकार किया था कि कुछ और खिलाड़ियों के साथ मिलकर उन्होंने मैच फिक्स करने के लिये पैसा लिया था. दो साल बाद उनकी विमान दुर्घटना में मौत हो गई लेकिन आज तक अटकलें लगाई जाती है कि दक्षिण अफ्रीका में सटोरियों के गिरोह ने उनकी हत्या कराई है ताकि आगे वह कोई और खुलासा नहीं कर सकें.

Source : Agency