कहते है कि जूता किसी इंसान की पहचान बताने का एक जरिया होता है। नया जूता पहनने हर किसी को पसंद होता है, लेकिन कई बार होता है कि नया जूता पहनने से कई दफा शू बाईट की समस्‍या हो जाती है। नया जूता पहनने से पैर में घाव या छाले के कारण जो प्रॉबल्म होती है वो कई दिनों तक दर्द दे सकता है। लेकिन अब इसका मतलब यह नहीं कि जूता पहनना ही छोड़ दिया जाएं।

आज हम आपको कई सामान्‍य घरेलू नुस्‍खे हैं जिनको आजमाकर शू बाइट की समस्‍या को दूर कर सकते हैं।

हल्‍दी और नीम
हल्‍दी को सबसे ताकतवर एंटीबॉयटिक माना जाता है, और नीम भी एंटीबॉयटिक गुणों से भरपूर है। अगर इन दोनों का प्रयोग किसी चोट या घाव पर किया जाये तो घाव जल्‍दी और आसानी से भर जायेगा। अगर जूते से पैरों में छाले पड़ गए हों या फिर उसके दाग रह गए हों तो आप हल्‍दी और नीम का पेस्‍ट लगा सकते हैं। यह छाले को पूरी तरह से सुखा देगा।

एलोवेरा जेल
जूतों के काटने के बाद कटी हुई या छाले पड़ी हुई जगह पर एलोवेरा जेल का प्रयोग करें। जूते के काटने के बाद पैरों में बहुत तेज जलन होती है। एलोवेरा जेल लगाने से जलन समाप्‍त हो जाती है।

चावल का प्रयोग
जूते के कटने के बाद चावल के आटे का पेस्‍ट बनाएं और उसे कटी वाली जगह या छाले पर लगाएं। 15 मिनट लगाए रखने के बाद जब वह सूख जाए तब पैरों को हल्‍के गरम पानी से धो लें। जलन दूर होगी और घाव जल्‍दी भर जायेगा।

टूथपेस्ट
टूथपेस्ट में बेकिंग सोडा, हाइड्रोजन पैराक्साइड या मेथानॉल होते हैं जिनमें घाव को ठीक करने का गुण होता है। शू बाइट या जूतों के कारण बने छाले पर रात भर टूथपेस्ट लगाकर रखें और अगले दिन सुबह गुनगुने गर्म पानी से धो लेने के बाद पेट्रोलियम जेली लगायें। याद रहे, जेल बेस्ड टूथपेस्ट का इस्तेमाल न करें।

बादाम और जैतून
बादाम भी एंटीबॉयटिक गुणों से भरपूर होता है। जूते के काटने के बाद बदाम को अच्‍छी तरह से पीस कर उसमें जैतून का तेल अच्‍छी तरह से मिला लीजिए। इस पेस्‍ट को कटी हुई या छाले पड़े हुए जगह पर लगायें। जब चमड़ी मुलायम हो जाए तब पैरों को धो लें। इससे आराम मिलेगा और जलन की समस्‍या भी दूर होगी।

नारियल का दूध
शू बाइट में नारियल का तेल बहुत काम करता है। शू बाइट के जगह पर नारियल का तेल लगाने पर वह मॉश्चराइज़र का काम करने के साथ-साथ घाव को जल्दी ठीक भी करता है। यहाँ तक कि जिस जगह जूते से घाव बन रहा है उस जगह नारियल का तेल लगाने से वह जगह नरम हो जाता है जिससे स्किन नहीं छिलता है।

एल्‍कोहल या आइस पैक
एल्‍कोहल भी बहुत ही बेहतरीन एंटीबॉयटिक है, किसी भी प्रकार के कटने और छाले के उपचार के लिए इसका प्रयोग करें। कॉटन के एक छुकड़े में कुछ बूंदे एल्‍कोहल की डालकर कटी हुई जगह पर रगड़ने से दर्द की समस्‍या दूर हो जाती है, 2-3 दिन ऐसा करने पर छाले भी गायब हो जायेंगे।

आइस पैक
आइस पैक को शू बाईट वाली जगह पर लगाने से भी बहुत आराम म‍िलता है। कटने के बाद आइस पैक से रगड़ने पर जलन और दर्द की समस्‍या दूर हो जायेगी।

Source : Agency