कवर्धा 
कबीरधाम जिले में उत्पादित गन्ना कम बचने के कारण जिले के दोनों सहकारी शक्कर कारखानों-भोरमदेव सहकारी शक्कर उत्पादक कारखाना और लौह पुरूष सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना में गन्ना पेराई सीजन 2017-18 समाप्ति की ओर है। दोनों शक्कर कारखानों के प्रबंध संचालकों ने बताया कि कारखानों द्वारा विक्रय हेतु शेष बचे कृषकों के गन्ना की समीक्षा की गई, जिसमें पाया गया कि लगभग 15 हजार मीट्रिक टन गन्ना विक्रय करना शेष है, जिसकी पेराई दोनों ही कारखानों के द्वारा 20 मई 2018 तक कर लिया जाएगा। किसी विशेष परिस्थितिवश किसानों का गन्ना  20 मई के बाद भी बचता है तो उसकी खरीदी एवं पेराई भी कारखानों के द्वारा की जाएगी। जिन किसानों के पास गन्ना विक्रय के लिए बच गया हो तथा वे सहकारी शक्कर कारखाने में गन्ना विक्रय करने के इच्छुक हों, ऐसे सभी गन्ना उत्पादक किसानांे से अपील की जाती है कि वे अपना शेष बचे गन्ने को जारी पर्ची के अनुसार संबंधित दोनों सहकारी शक्कर कारखाने में गन्ना विक्रय हेतु गन्ने की आपूर्ति अनिवार्य रूप से निर्धारित तिथि 20 मई तक कर सकते हैं। 

Source : Agency