नई दिल्ली
कर्ज में डूबी देश की दिग्गज इस्पात कंपनी भूषण स्टील का अधिग्रहण करने के साथ ही उसके कर्मचारियों के लिए एक अहम खबर है। देश की प्रमुख इस्पात कंपनी टाटा स्टील ने कहा है कि वो भूषण स्टील के सभी 5 हजार कर्मचारियों को बरकरार करेगा। टाटा स्टील के एमडी टीवी नरेंद्रन ने कंपनी के तिमाही नतीजे पेश करने के बाद यह बात कही।

NCLT में पेश की समाधान योजना
कंपनी ने भूषण स्टील का अधिग्रहण करने से पहले नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में समाधान योजना पेश करते हुए नरेंद्रन ने कहा कि भूषण स्टील फिलहाल 3 से 3.5 मिलियन टन क्षमता के साथ काम कर रही है। इस क्षमता को 5 मिलियन टन से ज्यादा ले जाने के लिए और निवेश करना होगा। इसे आसानी से 5 मिलियन टन से 8 मिलियन टन तक ले जाया जा सकता है।

ऑटो सेक्टर में बढ़ रही मांग
नरेंद्रन ने कहा कि ऑटो सेक्टर से उनको बड़ी मांग देखने को मिल रही है। तिमाही दर तिमाही स्टील की मांग 8 से 9 फीसदी बढ़ी है। कंपनी के ई़डी और सीएफओ कौशिक चटर्जी ने कहा कि मौजूदा वित्त वर्ष में क्षमता विस्तार पर 8000 करोड़ खर्च करने की योजना है। वित्त वर्ष 2018 की चौथी तिमाही में टाटा स्टील को 10,187 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ है। वित्त वर्ष 2017 की चौथी तिमाही में टाटा स्टील को 1,168 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। टाटा स्टील की आय 6.7 फीसदी बढ़कर 36,132 करोड़ रुपए पर पहुंच गई है।

Source : Agency