बेंगलुरु 
कर्नाटक के विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी होने के कारण बीजेपी ने सरकार तो बना ली लेकिन विधानसभा में बहुमत साबित करने के लिए बीजेपी सरकार को 15 दिन का समय दिया गया है। इन सबके बीच जेडीएस और कांग्रेस के कुछ विधायकों के 'गायब' होने की भी खबरें सामने आ रही हैं। कांग्रेस विधायकों को इगलटन रेजॉर्ट में लाया गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 78 में से 2 विधायक रेजॉर्ट पहुंचे ही नहीं थे और अब तीसरे विधायक के भी रेजॉर्ट से बाहर जाने की खबर है। बीजेपी कर्नाटक में बहुमत साबित करने से 8 विधायक पीछे है। जेडीएस पहले ही बीजेपी पर उसके विधायकों को 100-100 करोड़ रुपये की रिश्वत देने का आरोप लगा चुकी है। ऐसे में कांग्रेस और जेडीएस के सामने बड़ी चुनौती फ्लोर टेस्ट से पहले अपने विधायकों को बचाए रखने की भी है। हालांकि कांग्रेस की तरफ से अभी एक विधायक के ही बागी होने की पुष्टि की गई है। कांग्रेस नेता डी गुंडुराव ने दावा कि विजयनगर के कांग्रेस विधायक आनंद सिंह से पार्टी का संपर्क नहीं हो पा रहा है। 

वहीं, दूसरी ओर बेंगलुरु के एगल्टन रिज़ॉर्ट पहुंचे कांग्रेस विधायक खदेर ने कहा कि उनके सभी विधायक पार्टी के संपर्क में हैं और जो दो विधायक रिज़ॉर्ट नहीं पहुंचे हैं, वे भी पहुंच जाएंगे। खदेर ने कहा कि वह भी मंगलौर से अभी वापस आए हैं। आपको बता दें कि एगल्टन रिसार्ट बेंगलुरु के सबसे महंगे होटेलों में से एक है। कांग्रेस ने अपने विधायकों के ठहरने के लिए 132 कमरों वाले इस रिजॉर्ट को बुक किया है। गुजरात में राज्यसभा चुनाव के दौरान भी कांग्रेस ने अपने विधायकों को यहीं रखा था। कर्नाटक विधानसभा पहुंचे कांग्रेस सांसद डीके सुरेश ने कहा कि आनंद सिंह को छोड़कर कांग्रेस के सभी विधायक उनके साथ हैं। उन्होंने दावा किया कि आनंद पीएम नरेन्द्र मोदी के 'चंगुल' में हैं। वहीं दूसरी ओर जेडीएस नेता एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि मोदी सरकार केंद्र सरकार के संस्थानों का दुरुपयोग कर रही है। उन्होंने कहा, 'मुझे पता है कि वे (बीजेपी वाले) विधायकों को धमका रहे हैं।' कुमारस्वामी ने दावा किया कि कांग्रेस विधायक आनंद सिंह ने एक अन्य विधायक को बताया है, 'वे ईडी का दुरुपयोग कर रहे हैं। ईडी में मेरा एक केस है, वे मुझे बर्बाद कर देंगे। मुझे अपने आप को बचाना है।' 

इससे पहले कांग्रेस के विधायक अमरगौड़ा लिंगागौड़ा ने कहा था कि बीजेपी की तरफ से उन्हें पार्टी में आने का ऑफर दिया गया है। उन्होंने यह भी कहा था कि बीजेपी मंत्री पद का लालच देकर कांग्रेस विधायकों को तोड़ना चाहती है लेकिन कांग्रेस विधायक बीजेपी के झांसे में नहीं आएंगे।  आपको बता दें कि बता दें कि 224 सीटों वाली कर्नाटक विधानसभा की 222 सीटों पर मतदान हुआ था। इस चुनाव में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। लेकिन बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है। बीजेपी को 104 सीटें मिली हैं, जबकि कांग्रेस को 78 सीटें और जेडीएस को 38 सीटें मिली हैं। 

Source : agency