नई दिल्ली 
विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव के बाद प्रवीण तोगड़िया ने वीएचपी को अलविदा कह दिया है। हालांकि, उनका दावा है कि अब भी वीएचपी के कार्यकर्ता उनके साथ हैं। प्रवीण तोगड़िया ने दावा किया कि बजरंग दल के 90 पर्सेंट कार्यकर्ता उनके साथ हैं। मंगलवार को तोगड़िया ने अहमदाबाद में अनशन शुरु किया जिसमें गुजरात के वीएचपी के नेता भी पहुंचे।

जो हिंदुओं के साथ हम उनके साथ 
अनशन में पहुंचे गुजरात वीएचपी के अध्यक्ष दिलीप त्रिवेदी से जब पूछा गया कि क्या उन्होंने भी तोगड़िया के साथ वीएचपी छोड़ दी है? तो त्रिवेदी ने कहा कि मैं अभी भी वीएचपी में हूं। उन्होंने कहा, 'पूरा हिंदू समाज वीएचपी का सदस्य है और प्रवीण तोगड़िया पद पर नहीं हैं लेकिन वह वीएचपी के मुद्दों को ही आगे बढ़ा रहे हैं। हम वीएचपी के साथ हैं, तोगड़िया के साथ हैं और जो कोई भी हिंदुओं के मुद्दे को लेकर आगे चलेगा हम उसका साथ देंगे।' 

वहीं तोगड़िया ने कहा कि वीएचपी में सबसे ज्यादा 80 पर्सेंट कैडर बजरंग दल का है और बजरंग दल के 90 पर्सेंट कार्यकर्ता उनके साथ हैं। उन्होंने दावा किया कि नागपुर के अलावा केरल के 14 जिलों सहित यूपी में कई जगह बजरंग दल के कार्यकर्ता उनके और मुद्दों के समर्थन में उपवास पर बैठे। तोगड़िया ने कहा, 'दिल्ली में भी 19 अप्रैल को बजरंग दल कार्यकर्ता उपवास पर बैठने वाले हैं। जहां जहां पर कार्यकर्ता उपवास पर बैठेंगे बाद में मैं उन सभी जगहों पर जाकर जनसभा करूंगा।' 

वीएचपी का ही है 'हिंदू ही आगे' 
तोगड़िया ने 'हिंदू ही आगे' बैनर के साथ अपना अनशन शुरू किया है। 'हिंदू ही आगे' कैंपेन की शुरुआत 2013 में की गई थी जिसका लोगो संघ प्रमुख मोहन भागवत ने रिलीज किया था। इस लिहाज से यह वीएचपी की प्रॉपर्टी है। यह पूछने पर तोगड़िया ने कहा, ''हिंदू ही आगे' वीएचपी के ही अंतर्गत था। लेकिन वीएचपी में रहकर मैंने हिंदुओं के लिए हेल्थ लाइन सहित कई चीजें शुरू की थी।' 

Source : Agency