इंदौर
मध्य प्रदेश के इंदौर से कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी को 10 साल पुराने मामले में भोपाल की जिला अदालत ने जेल भेज दिया है. इससे पहले 5 अप्रैल को राजधानी की विशेष अदालत ने आपराधिक मामले में अदालत में उपस्थित ना होने पर कांग्रेस विधायक जीतू जितेंद्र पटवारी के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने के आदेश दिया था.

मामला इंदौर स्थित सुडेल थाने का था जिसमें 13 दिसंबर 2007 को जीतू पटवारी के खिलाफ शासकीय कार्य में बाधा डालने का प्रकरण दर्ज किया गया था. प्रकरण के फरियादी प्रधान आरक्षक कैलाश ने रिपोर्ट की थी कि वह अपने अन्य साथी पुलिस कर्मियों के साथ चुनाव ड्यूटी के दौरान वाहन चैकिंग कर रहे थे. तभी उन्हें एक बिना नंबर प्लेट का वाहन आता हुआ दिखाई दिया. उन्होंने जैसे ही उस वाहन को रोका तो वाहन चालक जीतू पटवारी ने उसे धक्का देकर वहां से भगा दिया.

इस मामले की सुनवाई पहले इंदौर कोर्ट में चल रही थी. लेकिन भोपाल में विशेष अदालत के गठन के बाद मामले की सुनवाई हुई. वहीं एक और मामला 14 सितंबर 2011 को नकदा पथ इंदौर धार हाईवे का भी है. कांग्रेस नेता जीतू पटवारी, तुलसीराम सिलावट, सत्यनारायण पटेल ने अपने कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर चक्काजाम कर नारेबाजी की थी. इस घटना में भी कांग्रेस नेताओं की पुलिस से झड़प हुई थी.

पुलिस ने इस मामले में 24 कांग्रेस नेताओं के खिलाफ बलवा और लोक मार्ग पर बाधा उत्पन्न् करने का प्रकरण दर्ज किया था. इस मामले में भी विशेष अदालत में सुनवाई नियत थी जिस दौरान मामले के एक गवाह के बयान भी दर्ज किए गए. प्रकरण में जीतू पटवारी सहित 10 अन्य लोग हाजिर नहीं हुए.

Source : Agency