वाराणसी
उत्तर प्रदेश के वाराणसी में उन्नाव एवं कठुआ सामूहिक बलात्कार कांड को लेकर सत्ताधारी भाजपा के खिलाफ लोगों का गुस्सा लगातार बढ़ रहा है और विरोध प्रकट करने के लिए वे सड़कों पर उतर रहे हैं। अब भाजपा के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के मुहल्ले में प्रवेश निषेध की चेतावनी वाले पोस्टर लगाए जा रहा हैं, जिन्हें सूचना मिलते ही पुलिस ने हटा दिया।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि नई सड़क मुहल्ले में विवादित पोस्टर लगे होने की सूचना मिलने के बाद उन्हें तत्काल हटा दिया गया है। उन्होंने बताया कि पोस्टर गैरकानूनी तरीके से छपवाए और चिपकाए गए थे। इस वजह से यह कार्रवाई की गई। उन्होंने बताया कि पोस्टर सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद पुलिस तत्काल मौके पर पहुंच गई और पोस्टर हटाने देखते ही उन्हें कार्रवाई की।

इसके अलावा साझा संस्कृति मंच की ओर से हस्ताक्षर अभियान और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गोद लिए गए गांव नागेपुर सहित लोगों ने विरोध प्रदर्शन किए गए। साझा संस्कृति मंच की ओर से काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के मुख्य द्वार पर आयोजित हस्ताक्षर अभियान के जरिए यौन शोषन मामलों के त्वरिति निपटारे के लिए अलग से फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाने और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की गई।

Source : Agency