आपने कुंभकरण के बारे में तो सुना होगा। जो 6 महीने सोता था। लेकिन आज भी एक गांव ऐसा है जहां के लोग 6 महीने तो नहीं लेकिन 1 महीना जरूर सोते है। शायद आपको मेरी बात पर विश्वास ना हो। लेकिन यह एकदम सही है। यह गांव उत्तरी कजाकिस्तान में कलाची नामक एक छोटा सा गांव है। यह गांव आसपास के क्षेत्र में काफी प्रसिद्ध हैं। प्रसिद्ध होने का कारण यहां के लोगों का कुम्भकरण की तरह लम्बे समय तक सोना है।

यहां के लोगों को स्लीपी हॉलो के नाम से जाना जाने लगा है। आश्चर्य की बात यह है कि यह घटना कई सालों से नहीं बल्कि पिछले 6 सालों से घट रही हैं। वैज्ञानिक भी इस रहस्य को नहीं सुलझा पा रहे है कि इस गांव के लोग इतने दिनों तक कैसे सोते हैं। यहां के लोगों को मालूम ही नहीं चलता कि वो कब सो जाते है और कब उठ जाते हैं। कई बार तो ऐसा होता है कि वह कोई काम कर रहे हैं और अचानक से उन्हें नींद आ जाती है। वह अचानक सो भी जाते हैं।

बस इसी बीमारी को सुलझाने में कई वैज्ञानिक लगे हुए हैं कि आखिर ऐसे कैसे हो जाता है। एक अनुमान के अनुसार यहां पर रह रहे लोगों के दिमाग में किसी तरल पदार्थ की मात्रा का बहुत ज्यादा गति में होना ही सबसे बड़ी समस्या है, और यह मात्रा इतनी तेज गति से उनके दिमाग में क्यों बढ़ रही है इसका पता लगाना अभी बाकी है। फिलहाल ये बात तो सच में चौकाने वाली है कि यहां के लोग 1 महीने तक सोते है।

Source : Agency