रायपुर
राजधानी रायपुर में फैल रही पीलिया की बीमारी ने नगर निगम के तमाम दावों, पानी की तमाम योजनाओं और शुद्धता के तमाम वादों की पोल खोलकर रख दी है.  पीलिया फैलने के बाद हरकत में आए निगम प्रशासन के ही आंतरिक सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ है कि राजधानी में 50 किलोमीटर की पाइप लाइन गंदी नालियों में डूबी हुई हैं.

एक लाख घरों तक पानी पहुंचाने वाली नगर निगम की सप्लाई लाइनों के सर्वे में खुलासा हुआ कि इनमें से 65 सौ घरों की पाइप लाइन गंदी नालियों में डूबी हुई हैं. ये पाइप लाइन उन इलाकों में हैं जहां पीलिया तेजी से फैल रहा है.

निगम के ही सर्वे में यह बात सामने आ गई है कि 50 किमी पाइप लाइन नालियों से गुजर रही हैं और जर्जर हैं, इसलिए उन्हें तुरंत बदलना होगा. इनमें निगम की 2 से 3 इंच तक की डिस्ट्रीब्यूशन लाइनों के अलावा वह पाइप भी हैं, जो लोगों ने अपने घरों तक पहुंचाए हैं.

इस रिपोर्ट के आधार पर ये आशंका जताई गई है कि तीन से पांच दशक तक पुरानी यही लाइनें जगह-जगह से लीक हैं और यहीं से सीवरेज का पानी घुलकर नलों के जरिए घरों तक पहुंच रहा है. सीवरेज वाटर में पनपे इ-कोलाई बैक्टीरिया के कारण ही पीलिया फैल रहा है. आलम ये है कि लोग अब नगर निगम का पानी पीने से भी डर रहे हैं.

Source : Agency