नई दिल्ली 
बीजेपी ने कठुआ गैंगरेप मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट बनाकर त्वरित मांग करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर हमला बोला है। बीजेपी ने कठुआ और उन्नाव गैंगरेप मामले में आधी रात को राहुल गांधी की कैंडल यात्रा पर भी निशाना साधा है। बीजेपी ने पूछा है कि राहुल गांधी निर्भया के वक्त कहां थे। आपको बता दें कि रेप के आरोपियों को बचाने की कोशिश में निकाली गई रैली में कथित तौर पर बीजेपी के 2 नेता भी शामिल हुए थे। इसके बाद से ही कांग्रेस समेत विपक्ष ने बीजेपी को निशाने पर ले रखा है।

केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडेकर ने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इन आरोपों के संबंध में कांग्रेस और राहुल पर निशाना साधा। जावडेकर ने कहा कि कांग्रेस के जम्मू-कश्मीर के अध्यक्ष ने इस घटना के बाद कहा था कि स्थानीय लोग अगर कह रहे हैं कि असल दोषी बाहर हैं तो इसमें कुछ सच्चाई होगी। जावडेकर ने कहा कि उन्होंने जांच को मामले को रफा-दफा करने की कोशिश बताया था। जावडेकर ने सवाल पूछते हुए कहा कि जब बीजेपी ने स्थानीय लोगों की इसी भावना को उठाया तो हल्ला मच गया। 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि हमने तो इस मामले में कार्रवाई की। जावडेकर ने कहा कि 'हमारे दोनों मंत्रियों ने इस्तीफे दिए, लेकिन रात में कैंडल मार्च निकालने वाले राहुल गांधी अपने प्रदेश अध्यक्ष पर कार्रवाई नहीं करते।' उन्होंने कहा कि जब देश निर्भया के मामले में उद्वेलित था तब राहुल ने कैंडल मार्च क्यों नहीं निकाला। 

जावडेकर ने एक बार फिर राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद का 2014 चुनाव का मैनेजमेंट देखने वाले सलाथिया के रेप आरोपियों का समर्थन करने का मामले को फिर उठाया। उन्होंने कहा कि गुलाम नबी आजाद को भी माफी मांगनी चाहिए। जावडेकर ने कहा कि हम चाहते हैं कि जोधपुर की तरह ही इस मामले को भी फास्ट ट्रैक कोर्ट के हवाले कर एक महीने में न्याय सुनिश्चित किया जाए। 
 

Source : Agency