नई दिल्ली

उन्नाव और कठुआ गैंगरेप केस ने पूरे देश को हिला कर रख दिया है. दोनों मामले में लोग कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं तो वहीं सरकार के खिलाफ गुस्सा भी लगातार बढ़ता जा रहा है. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस मुद्दे पर गुरुवार रात कैंडल मार्च निकाला और उनके साथ पूरी पार्टी और आम लोग भी दिखे. लेकिन इन चेहरों के बीच एक ऐसा चेहरा भी था, जिसने हर किसी का ध्यान खींचा. आधी रात को राहुल की बहन प्रियंका गांधी भी अपने पति रॉबर्ट वाड्रा और बच्चों के साथ मार्च में हिस्सा लेने पहुंचीं.

प्रियंका गांधी ने खुद मार्च का मोर्चा संभाला और काफी आक्रामक अंदाज में इंडिया गेट पर पहुंचीं. राहुल गांधी ने जिस तरह इस मुद्दे पर एक झटके में मोदी सरकार को बैकफुट पर धकेल दिया. वहीं राहुल के साथ प्रियंका का होना एक बार फिर बड़ा संदेश दे गया. ऐसा पहली बार नहीं है कि प्रियंका गांधी ने फ्रंटफुट पर आकर मोर्चा संभाला हो, लेकिन राहुल के अध्यक्ष पद संभालने के बाद पहली बार ही ऐसा हुआ है कि उन्होंने सार्वजनिक तौर पर किसी कार्यक्रम में हिस्सा लिया हो. इससे पहले भी कई मौकों पर प्रियंका राहुल के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलती रही हैं.

अमेठी में चुनाव-प्रचार

प्रियंका गांधी यूं तो राजनीति से दूर ही रहती हैं लेकिन लोकसभा चुनावों के दौरान हर बार वे अमेठी-रायबरेली में मोर्चा संभालती हैं. राहुल-सोनिया पूरे देश में प्रचार में व्यस्त होते हैं तो प्रियंका गांधी ही दोनों के क्षेत्रों में घूम-घूम कर प्रचार करती हैं. 2014 में भी जब अमेठी में राहुल के खिलाफ स्मृति ईरानी और कुमार विश्वास ने मोर्चाबंदी की थी, तो प्रियंका और राहुल के एक रोड शो ने ही पूरे रुख को बदल दिया था. ना सिर्फ प्रचार बल्कि प्रियंका रायबरेली-अमेठी के संगठनों पर भी पूरी नज़र रखती हैं और हमेशा अपडेट लेती रहती हैं.

राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद पहले अधिवेशन में संभाला मोर्चा

राहुल गांधी ने हाल ही में पार्टी अध्यक्ष का पद संभाला है, अभी कुछ ही दिन पहले ही राहुल के नेतृत्व में कांग्रेस का अधिवेशन हुआ. राहुल के अध्यक्ष बनने के बाद ये कांग्रेस का पहला अधिवेशन था. इस दौरान तैयारियों का जायजा लेते हुए प्रियंका गांधी की तस्वीरों ने काफी चर्चा बटोरी थी. प्रियंका कैमरे के सामने तो नहीं आईं लेकिन अधिवेशन से पहले ही प्रियंका ने पूरी तैयारियों को काफी बारीकी से परखा.

 

 

Source : Agency