नई दिल्ली 
उन्नाव और कठुआ गैंगरेप की घटनाओं ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया है. इस प्रकार हो रही घटनाओं के विरोध में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी ने इंडिया गेट पर मिडनाइट मार्च निकाला. इस मार्च में काफी भीड़ उमड़ी तो वहीं राहुल गांधी की बहन प्रियंका वाड्रा और उनके जीजा रॉबर्ट वाड्रा भी अपनी बेटी के साथ मार्च में पहुंचे.   

इस कैंडल मार्च में कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता, कार्यकर्ता और छात्र शामिल हुए. इंडिया गेट पर इस मार्च में शामिल लोगों ने मोदी सरकार और उत्तर प्रदेश एवं जम्मू-कश्मीर की सरकारों के खिलाफ नारेबाजी की. साथ ही उन्होंने बलात्कार के इन दोनों मामलो में जिम्मेदार लोगों के खिलाफ तत्काल कार्रवाई की मांग की.

राहुल गांधी ने यहां कहा कि देश की महिलाएं बाहर निकलने से डरती हैं और ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘ बेटी बचाओ’ का काम शुरू कर देना चाहिए. राहुल ने कहा कि हम महिलाओं के खिलाफ हो रहे अपराध, बलात्कार, हिंसा और हत्या की घटनाओं के खिलाफ यहां मौजूद हैं. सरकार को इस पर कार्रवाई करनी चाहिए, यह राष्ट्रीय मुद्दा है. राजनीतिक मुद्दा नहीं है.

राहुल ने कहा कि यह हमारी अपनी महिलाओं के लिए है, हजारों लोग यहां मौजूद हैं जिनमें सभी पार्टियों के लोग और आम लोग भी शामिल हैं. आज देश में ऐसे हालात हैं जहां हत्या, बलात्कार और हिंसा की एक के बाद एक घटनाएं हो रही हैं. हम उसके खिलाफ यहां खड़े हैं, हम चाहते हैं कि सरकार कार्रवाई करे.

कार्यकर्ताओं पर भड़कीं प्रियंका

आपको बता दें कि आधी रात को इंडिया गेट पर निकाले कए कैंडल मार्च में राहुल की बहन प्रियंका और उनके पति रॉबर्ट वाड्रा भी मौजूद थे. कैंडल मार्च के दौरान प्रियंका से धक्का-मुक्की हुई. धक्का-मुक्की से नाराज प्रियंका ने वहां मौजूद लोगों से कहा कि जो लोग यहां धक्का-मुक्की के लिए आए हैं वे घर वापस जाएं. कृपया शांति बनाए रखें और खामोशी के साथ चलें. प्रियंका ने गुस्से में कहा कि उस मकसद के बारे में सोचिए जिसके लिए आप यहां आए हैं.
 

Source : Agency