इंडियन वेल्स
जापान की नाओमी ओसाका ने रूस की डारिया कसात्किना को महिलाओं के खिताबी मुकाबलों में लगातार सेटों में 6-3 6-2 से हराकर यहां इंडियन वेल्स टेनिस टूर्नामेंट के रूप में करियर का पहला खिताब जीत लिया। गैर वरीय हैती मूल की जापानी खिलाड़ी 20 साल की ओसाका इंडियन वेल्स में 10 वर्षाें बाद सबसे युवा चैंपियन हैं। उनसे पहले एना इवानोविच यहां सबसे युवा विजेता बनी थीं। ओसाका ने पूरे टूर्नामेंट में केवल एक ही सेट गंवाया और आसान जीत के साथ खिताब पर कब्जा किया।

ओसाका ने इससे पहले मारिया शारापोवा, पांचवीं सीड कैरोलिना प्लिस्कोवा और फिर सेमीफाइनल में विश्व की नंबर एक खिलाड़ी सिमोना हालेप को हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। उन्होंने फाइनल में पहले सेट के आखिरी तीन गेम जीते और दूसरे सेट में भी बढ़त बनाये रखी और मात्र 70 मिनट में खिताब अपने नाम कर लिया। जापानी खिलाड़ी ने मैच के बाद कहा यदि आप बहुत मेहनत करती हैं तो जीत सकती हैं। यदि आपको खुद में विश्वास हो तो जीतना आसान होता है। वर्ष 2016 के टोक्यो ओपन में ओसाका उपविजेता रही थीं। मैच के शुरूआत में हालांकि उन्होंने कुछ बेजां भूलें की लेकिन फिर पूरी तरह नियंत्रण बना लिया।

अमेरिका में रहने वाली जापानी खिलाड़ी ने पहले सेट में 3-3 के स्कोर के बाद लगातार पांच गेम जीते। इसके बाद दूसरे सेट में 5-2 के स्कोर पर कसात्किना के खिलाफ बैकहैंड विनर के साथ सेट और मैच जीता। ओसाका ने मैच के बाद कहा रूसी खिलाड़ी काफी चुनौती दे रही थीं लेकिन मैंने निरंतरता दिखाई। जापानी खिलाड़ी ने पहले सर्व पर 79 फीसदी अंक जीते और 23 विनर्स लगाये। अमेरिकी खिलाड़ी वीनस विलियम्स को सेमीफाइनल में बाहर करने वाली रूसी खिलाड़ी फाइनल में ओसाका का जवाब नहीं दे सकीं जो इस जीत के बाद विश्व रैंकिंग में अब करियर के सर्वश्रेष्ठ 22वें स्थान पर पहुंच गयी हैं। 

Source : agency