इश्कबाज के इस एपिसोड में शिवाय को ट्रॉली में कुछ नहीं मिलता है। इससे अनिका, भव्या और गौरी चिंता में पड़ जाती हैं। उन्हें चिंता होती है कि आर्यन कहां चला गया और उसे ढूंढती हैं। इधर वीर सौम्या को बताता है कि उसने आर्यन को वो चॉकलेट्स लाने के लिए भेजा है जो लकड़ियों के बीच में रखे हैं। उन्हें आग लगाई जाने वाली है। वीर को लगता है कि आर्यन को या तो तीनों ओबेरॉय बहुएं निकाल लेंगी या फिर वह मर जाएगा। दोनों ही स्थिति में उसका काम हो जाएगा।

पिंकी सभी को होलिका दहन के लिए बुलाती है। शिवाय सोचता है कि अनिका उससे झूठ क्यों बोल रही है वह भी तब, जब पहले ही इतनी समस्याएं हैं। अनिका को भी अफसोस होता है कि उसे आर्यन के बारे में झूठ बोलना पड़ रहा है। जैसे ही लकड़ियों को आग लगाई जाती है वैसे ही तीनों बहुएं आर्यन को देख लेती हैं। वे उसे बाहर निकाल लेती हैं। कमरे में ले जाकर वे उसे दवाई लगाती हैं और कहती हैं कि वे उनकी बात माने। वे उसे अपना परिचय भी देती हैं।

जब तीनों महिलाएं किचन में होती हैं तो शिवाय अनिका से पूछता है कि वे वहां क्या कर रही हैं? उसे शक होता है कि वे उससे कुछ छिपा रही हैं और वह आर्यन को भी देख लेता है। इसपर अनिका बहाने बनाती है लेकिन शिवाय उसकी बातें नहीं मानता है। वे सब किसी न किसी बहाने से वहां से चली जाती हैं। इससे शिवाय और भी ज्यादा कन्फ्यूज हो जाता है।

Source : Agency