बर्मिंघम (इंग्लैंड)
भारत की दिग्गज महिला बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल को ऑल इंग्लैंड ओपन बैडमिंटन टूर्नमेंट के पहले ही दौर में हार का सामना करना पड़ा। वर्ल्ड नंबर-1 ताई जु यिंग ने उन्हें सीधे सेटों में 21-14 और 21-18 से हरा दिया। 2015 में इस टूर्नमेंट का रजत पदक अपने नाम करने वाली साइना की वर्ल्ड नंबर खिलाड़ी के सामने एक न चली और सीधे सेटों में हार मिली।

 
साइना और चीनी ताइपे की खिलाड़ी यिंग के बीच अब तक कुल 15 मैच खेले जा चुके हैं। यिंग ने इस बार 10वीं बार साइना को हराया, जबकि 5 मेचों में भारतीय खिलाड़ी जीतने में सफल रही है। पहले गेम में ताई जु की रफ्तार का सामना करने में नाकाम रही साइना ने दूसरे गेम में 16-11 की बढ़त बनाने के बावजूद मौका खो दिया और 10 लाख डॉलर ईनामी राशि के विश्व सुपर 1000 टूर्नमेंट से बाहर हो गईं। इस साल इंडोनेशिया मास्टर्स के फाइनल में ताई जु से हारी साइना कई लंबी रेलियां लगाई, लेकिन ताई जु जबरदस्त फॉर्म में थी। उन्होंने सिर्फ 38 मिनट के भीतर यह मुकाबला जीत लिया।

साइना को कोर्ट पर जमने में समय लगा, लेकिन ताई जु ने समय बर्बाद नहीं किया और जल्दी ही 3-1 से बढ़त बना ली। इसके बाद उनकी बढ़त 6-2 की हो गई। उसने फिर कुछ सहज गलतियां की, लेकिन साइना उसका फायदा नहीं उठा सकी और ताइवानी खिलाड़ी की बढ़त 9-4 की हो गई। इसके बाद साइना ने लगातार 3 अंक बनाए, जब जु ने क्रॉसकोर्ट फ्लिक पर गलती और और उसका स्मैश नेट के भीतर चला गया।

साइना ने एक समय 10-10 से बराबरी कर ली, लेकिन ब्रेक के समय जु के पास 11-10 की बढ़त थी। एक समय स्कोर 14-14 था, लेकिन जु ने इसके बाद बेहद आक्रामक खेल दिखाया और 6 अंक बनाए। इसके बाद शानदार रिटर्न पर पहला गेम जीत लिया। दूसरे गेम में साइना ने 3-1 की बढ़त से आगाज किया और जल्दी ही 10-7 से बढ़त बना ली। एक समय साइना ने 16-11 से बढ़त कर ली थी, लेकिन जु ने शानदार वापसी करते हुए उन्हें कोर्ट के चारों ओर दौड़ाया। उन्होंने 17-17 से वापसी की और बाद में 20-18 से बढ़त बना ली। साइना की अगली गलती पर उसने गेम और मैच जीत लिया।

अब सिंधु पर निगाहें
साइना की हार के बाद अब निगाहें सिंधु पर हैं। महिला एकल वर्ग के पहले दौर में वर्ल्ड नंबर-4 पीवी सिंधु का सामना थाईलैंड की वर्ल्ड नंबर-22 पोर्नपावी चोचुवोंग से होगा। दोनों के बीच अब तक एक ही मैच हुआ है और उसमें भारतीय खिलाड़ी ने जीत हासिल की है। ऐसे में सिंधु के लिए दूसरे दौर में प्रवेश करना मुश्किल नहीं होगा। सिंधु ने इस टूर्नमेंट में अभी तक खास सफलता हासिल नहीं की है। पिछले साल वह इसके क्वॉर्टर फाइनल तक का सफर ही तय कर पाई थीं और यह उनका इस प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था।

Source : Agency