गुड़गांव
हाल ही में मैक्सिको में आयोजित हुए शूटिंग वर्ल्ड कप ( ISSF) में भारत को दो स्वर्ण पदक दिलाने वाली हरियाणा की मनु भाकर आज देश लौट रही हैं। 16 वर्षीय मनु ने 10 मीटर एयर पिस्टल और मिक्स्ड टीम पिस्टल में गोल्ड मेडल अपने नाम किया। भारतीय शूटर्स के शानदार परफॉर्मेंस की बदौलत भारत इस शूटिंग वर्ल्ड कप में टॉप पर रहा।

हरियाणा के झज्जर की मनु ने वर्ल्ड कप में अपने शानादर परफॉर्मेंस पर बात करते हुए कहा, 'वर्ल्ड कप में खेलना चुनौती भरा था। मैं सभी को यह प्रूव करना चाहती थी कि मैं यह कर सकती हूं और मैंने कर दिखाया।' मैक्सिको में आयोजित होने वाले इन खेलों से पहले मनु ने दिसंबर महिने में तोक्यो में आयोजित एशियन शूटिंग चैंपियनशिप में रजत पदक अपने नाम किया था।


इंटरनैशनल शूटिंग में अपना लोहा मनवा चुकीं मनु झज्जर के गौरैया गांव के यूनिवर्सल सीनियर सेकंडरी स्कूल में 11वीं क्लास की स्टूडेंट हैं। वह साइंस स्ट्रीम की स्टूडेंट हैं और शूटिंग के साथ-साथ पढ़ाई में उनका लक्ष्य डॉक्टर बनना है। मनु ने कहा, 'भले ही मैं इंटरनैशनल लेवल पर शूटिंग की खिलाड़ी हूं, लेकिन इसके बावजूद मैं डॉक्टर बनना चाहती हूं।'

मनु के पिता राम चंद्र भाकर मर्चेंट नेवी में चीफ इंजियनर हैं। वह अपना ज्यादातर समय जहाजों पर ही बिताते हैं और इसके चलते वह अपने परिवार को पर्याप्त समय नहीं दे पाते हैं। राम कृष्ण परिवार को पर्याप्त समय न दे पाने पर अफसोस भी जताते हैं। राम कृष्ण कहते हैं, 'मेरा काम ऐसा है, जिससे मैं परिवार के लिए ज्यादा समय नहीं निकाल पाता। एक पिता के रूप में मैं हरियाणा में अपनी बेटी को लेकर हमेशा चिंतित रहता था। इसलिए मैं चाहता था कि वह कोई खेल चुने, जिससे उसे कॉन्फिडेंस मिले और शूटिंग इसका जवाब है।'


मनु दो साल पहले ही शूटिंग के खेल के लिए पिस्टल थामी थी। उनकी मां सुमेधा भाकर कहती हैं, 'खेलों के प्रति उसका शुरुआत से झुकाव था। जब वह छठी क्लास में थी, तब उसने स्टेट लेवल पर बॉक्सिंग और कराटे जैसे खेलों में हिस्सा लिया। इसके बाद उसने शूटिंग और थांग ता (मनीपुर मार्शल आर्ट्स) खेलना शुरू किया। बतौर खिलाड़ी वह मैराथन में भी भाग लेना चाहती हैं।'

झज्जर जिले में शूटिंग की प्रैक्टिस के लिए यूनिवर्सल सीनियर सेकंडरी स्कूल ही एकमात्र स्थान है, जहां शूटिंग रेंज है। सुमेधा ने बताया, 'स्कूल में मौजूद शूटिंग रेंज इंटरनैशनल मानकों के हिसाब से तो नहीं है, लेकिन यहां मनु की बेसिक जरूरतें पूरी हो जाती थीं और मनु ने शूटिंग के शुरुआती गुर इसी स्कूल की शूटिंग रेंज में ही सीखे।'

मनु ने मैक्सिको शूटिंग वर्ल्ड कप के लिए अपनी साल 2017 की रैंकिंग की बदौलत क्वॉलिफाइ किया। अब वह 19 से 29 मार्च को सिडनी में होने वाले ISSF जूनियर वर्ल्ड कप के लिए कमर कसेंगी। मनु पहले ही ऑस्ट्रेलिया में होने वाले कॉमनवेल्थ खेलों के लिए भी क्वॉलिफाइ कर चुकी हैं। मैक्सिको से वापस लौट कर वह देश में सिर्फ दो ही दिन रहेंगी और इसके बाद वह ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना हो जाएंगी।

Source : Agency