नई दिल्ली 

 
दिल्ली के व्यापारिक संगठनों की ओर से सीलिंग के विरोध में मंगलवार को दिल्ली बंद का ऐलान किया गया। जिसके बाद आज राजधानी दिल्ली के प्रमुख बाज़ार बंद रहेंगे। उधर, व्यापारियों के बाद घोषणा के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सर्वदलीय बैठक बुलाई है।
व्यापारियों के संगठन कन्फेडरशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट)  के अनुसार इस बंद में दिल्ली की विभिन्न बाजारों के लगभग 2500 से अधिक व्यापारिक संगठन शामिल होंगे। लगभग सात लाख से ज्यादा व्यापारी अपना कारोबार बंद रखेंगे। इससे लगभग 1200 करोड़ रुपये के कारोबार का नुकसान होगा। वहीं व्यापारियों के संगठन चैम्बर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री ( सीटीआई ) ने बंद के दौरान दिल्ली के विभिन्न बाजारों में सीलिंग की शव यात्रा निकालने की घोषणा की है।
व्यापारियों के संगठन कन्फेडरशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट)   के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने बताया कि बंद के दौरान करोलबाग स्थित आर्यसमाज रोड पर एक व्यापारी पंचायत बुलायी गई है। इस पंचायत में सीलिंग से राहत के लिए आगे क्या कदम उठाए जाएं इस पर चर्चा की जाएगी। इस पंचायल में दिल्ली भर के व्यापारी शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि बंद के दौरान दिल्ली में अनेक मार्केटों में धरने एवं प्रदर्शन भी होंगे। वहीं  चैम्बर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री ( सीटीआई ) के संयोजक बृजेश गोयल ने कहा कि  13 मार्च का दिल्ली बंद ऐतिहासिक रहेगा क्योंकि इस बंद को सभी राजनैतिक पार्टियों के व्यापार संगठनों ने समर्थन दिया है और दिल्ली बंद को लेकर पूरा व्यापारी समुदाय एकजुट है।
सीलिंग की शव यात्रा निकाली जाएगी 
 व्यापारियों के संगठन चैम्बर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री ( सीटीआई ) ने सीलिंग के विरोध में 13 मार्च को 100 से अधिक बाजारों में सीलिंग की शवयात्रा निकालने की घोषणा की है। सबसे बड़ी शवयात्रा कशमीरी गेट मार्केट से शुरू होकर निगम बोध घाट जाएगी और वहां सीलिंग की अर्थी का अंतिम संस्कार किया जाएगा । सीटीआई का कहना है कि पिछले 3 महीने में 3867 दुकानें सील हो चुकी हैं लेकिन इस समस्या का समाधान नहीं निकला है ।  इस समस्या का समाधान केवल केन्द्र सरकार के पास है , हम केन्द्र सरकार से मांग करते हैं कि तुरन्त एक बिल या अध्यादेश लाकर सीलिंग की कार्रवाई को तुरन्त रोका जाये  ।
गृह मंत्री से मिले व्यापारी 
सीलिंग की समस्या को लेकर कन्फेडरशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। व्यापारियों ने सीलिंग की समस्या के समाधान के लिए उनसे हस्तक्षेप करने का आग्रह किया। केंद्रीय गृह मंत्री ने व्यापारियों को आश्वासन दिया कि सीलिंग की समस्या का जल्द ही कोई स्थाई समाधान निकाला जाएगा। सीलिंग की समस्या पर केंद्र सरकार लगातार नजर बनाए हुए हैं। सीलिंग की समस्या के संबंध में उन्होंने दिल्ली के उपराजयपाल से भी बात की। 
बिल ला कर सीलिंग की समस्या से दिलाएं निजाद 
व्यापारियों के संगठन कन्फेडरशन ऑफ़ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट)  ने मांग की है कि केंद्र सरकार दिल्ली के व्यापार को सीलिंग से बचाने के लिए तुरंत संसद के चालू सत्र में एक बिल लाकर सीलिंग से राहत दिलाए। वहीं संगठने ने मांग की कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल 16 मार्च से शुरू हो रहे विधानसभा सत्र के पहले दिन ही सीलिंग पर रोक का बिल पारित करें ओर उसे मंजूरी के लिए केंद्र सरकार को भेजें  और 351 सड़कों को तुरंत अधिसूचित करें। 
 बंद में ये बाजारें होंगी शामिल 
व्यापारिक संगठनों का दावा है कि शहरी क्षेत्र में चांदनी चौक, भगीरथ पैलेस,खारी बावली,नया बाज़ार, कश्मीरी गेट, सदर बाजार, चावड़ी बाजार,नई सड़क, श्रद्धानन्द बाजार, लाहोरी गेट, दरिया गंज, मध्य दिल्ली में कनाट प्लेस, करोल बाग, पहाड़गंज, खान मार्किट,  उत्तरी दिल्ली में अशोक विहार,रोहिणी  मॉडल टाउन, शालीमार बाग़, पीतमपुरा, पंजाबी बाग़, आजादपुर  की मार्केटों में कोई कारोबार नहीं होगा वहीं पश्चिमी दिल्ली में राजौरी गार्डन, तिलक नगर, उत्तमनगर, जेल रोड, नारायणा, कीर्ति नगर, द्वारका, जनकपुरी, उत्तम नगर, दक्षिणी दिल्ली में अमर कॉलोनी, लाजपत नगर,ग्रेटर कैलाश, साउथ एक्सटेंशन, डिफेन्स कॉलोनी, हौज़ खास, ग्रीन पार्क, युसूफ सराय , सरोजिनी नगर, तुग़लकाबाद, कालकाजी एवं पूर्वी दिल्ली में, विकास मार्ग,लक्ष्मी नगर, प्रीत विहार, मयूर विहार, शाहदरा, कृष्णा नगर, गाँधी नगर, दिलशाद गार्डन, लोनी रोड, सहित प्रमुख बाजार पूरे तौर पर बंद रहेंगे। 

Source : Agency