बच्चों के पेट में कीड़े होना बहुत ही आम बात है। अगर आपके बच्चे के पेट में कीड़े हैं तो परेशान होने या घबराने की बात नहीं। बहुत से तरीके हैं जिनकी मदद से बच्चों के पेट के कीड़ों को खत्म किया जा सकता है। शिशु के पेट में कीड़े या कृमि का संक्रमण कई वजह से हो सकता है। जैसे की जमीन पर नंगे पैर चलने/खेलने से, अशुद्ध आहार ग्रहण करने से, संक्रमित पानी पिने से।


संक्रमित, मिट्टी, पानी या आहार के संपर्क में आने से बच्चे के पेट में कीड़े पहुंच जाते हैं। यहां पहुंचकर जब इन अंडों से कीड़े निकलते हैं तो ये बहुत तेज़ी से अपनी संख्या बढ़ाने लगते हैं। ये पेट में ही और अंडे देते हैं और बच्चे पैदा करने लगते हैं। बच्चों के पेट के कीड़ों को मारने के लिए भारत में बहुत तरह के घरेलू उपचार उपलब्ध हैं। आम तौर पर बच्चों में कीड़ों का कोई विशेष लक्षण नहीं दिखाई देता है। अगर लक्षण होता भी है तो इतना हल्का होता है कि उन पर आसानी से नजर नहीं जाती है।

पहचाने लक्षण

पेट में दर्द होना
बच्चे का वजन घटा जाना
स्वाभाव चिड़चिड़ा हो जाना
मल द्वार पर खुजली या दर्द होना
उल्टी या खांसी होना
दस्त होना या भूख न लगना


घरेलू नुस्खों से दूर हो सकती है समस्या

अजवायन में ऐंटी-बैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं जो कीड़ों को समाप्त कर देते हैं। इसके लिए अजवायन का चूर्ण आधा ग्राम और उतना ही गुड़ में गोली बनाकर दिन में तीन बार इसका सेवन मरीज को करवाएं।

चुटकी भर काला नमक और आधा ग्राम अजवायन चूर्ण मिला लीजिए, इस चूर्ण को रात के समय रोजाना गुनगुने पानी से लेने से पेट के कीड़े निकल जाते हैं।

अनार के छिलकों को सुखाकर इसका चूर्ण बना लीजिए। यह चूर्ण दिन में तीन बार एक-एक चम्मच लीजिए। कुछ दिनों तक इसका सेवन करने से कीड़े पूरी तरह से नष्ट हो जाते हैं।

नीम के पत्ते ऐंटी-बायॉटिक होते हैं जो पेट के कीड़ों को नष्ट कर देते हैं। नीम के पत्तों को पीसकर उसमें शहद मिलकार पीने से जल्दी फायदा होता है।

टमाटर पेट के कीड़ों को नष्ट कर सकता है। टमाटर को काटकर, उसमें सेंधा नमक और काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर इसका सेवन कीजिए। इस चूर्ण का सेवन करने के बाद पेट के कीड़े मरकर बाहर निकल जाते हैं।

Source : Agency