श्रीनगर 
पिछले दिनों फिदायीन हमले की आशंका के चलते जम्मू-कश्मीर पुलिस ने पुणे की रहने वाली एक किशोरी को हिरासत में लिया था। हालांकि, पुलिस पूछताछ में 18 वर्षीय सादिया ने बताया कि वह नर्सिंग कॉलेज में ऐडमिशन लेने कश्मीर आई थी। इस पूरे मामले एक बार फिर नया मोड़ सामने आया है। अब जम्मू-कश्मीर पुलिस का कहना है कि सादिया अनवर शेख कथित तौर पर अलकायदा कश्मीर यूनिट के प्रमुख जाकिर मूसा के पुलवामा जिले स्थित गांव में रह रही थी।
 
बता दें कि पुणे की रहने वाली किशोरी सादिया अनवर शेख को आतंकी संगठन आईएसआईएस से जुड़े होने के शक में जम्मू-कश्मीर से गिरफ्तार किया गया था। सुरक्षा एजेंसियों द्वारा 18 वर्षीय लड़की से की गई लंबी पूछताछ के बाद किशोरी को कुछ दिन पहले ही क्लीन चिट दे दी गई थी। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, सादिया त्राल स्थित नूरपुरा गांव में ठहरी थीं। 

 
क्या मूसा के संपर्क में थीं सादिया? 
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है, 'सादिया को जहां रखा गया था, वहां से कुछ दूरी पर ही मूसा का घर है। हमारे पास इस बात का कोई ठोस सबूत नहीं है कि वह मूसा से मिली या फिर उसके साथ संपर्क में थी। हम यह पता लगाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं कि वह नूरपुरा में दो लड़कियों के साथ संपर्क में कैसे आई और उसके सबसे ज्यादा आतंकवाद प्रभावित क्षेत्र में रहने की क्या वजह थी? जब तक सब कुछ साफ नहीं हो जाता, तब तक हम उससे पूछताछ जारी रखेंगे।' 

कई बार बयानों से पलटने का आरोप 
अधिकारी ने आगे कहा कि सादिया कई बार अपने बयानों से पलट चुकी हैं। कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक, वर्ष 2015 से लेकर कई बार पुणे एटीएस ने किशोरी से पूछताछ की है। वह कश्मीर के कई लोगों से सोशल नेटवर्किंग साइट्स के माध्यम से संपर्क में थी। पूछताछ के दौरान किशोरी ने पुलिस को बताया कि वह घाटी में रहना चाहती हैं। 

Source : Agency