जगदलपुर 
 सुकमा जिले के विकासखंड छिंदगढ़ के संकुल पेंदलनार के प्राथमिक शाला ईरपा का अजब हाल है। यहां के प्राथमिक शाला में पदस्थ शिक्षिका माधुरी कश्यप ने बताया कि यहां पर दर्ज संख्या 8 है और मात्र चार बच्चे ही स्कूल आते हैं, वो भी मात्र मध्यान्ह भोजन करने आते है।

न मध्या- भोजन से पहले और न ही मध्या- भोजन के बाद ये बच्चे शाला में बैठना पसंद करते हैं। उन्होंने बताया कि इस शाला में दो शिक्षक पदस्थ हैं। हम लोग ग्रामीणों से संपर्क कर बार-बार उनसे बच्चों को शाला भेजने हेतु कहते हैं परंतु ग्रामीण हमारी बात नहीं सुनते हैं। नईदुनिया ने जब ग्रामीणों से पूछा तो उन्होंने बताया कि हमारे गांव के कुछ बच्चे आश्रमों में अध्ययन करने चले गए है व जो बच्चे गांव में है, वो स्कूल ही नहीं जाते हैं।

बीईओ छिंदगढ़ बीआर बघेल ने इस संबंध में बताया कि मैंने भी 10 जनवरी को इस शाला का निरीक्षण किया था जहां मुझे रसोइयों के अलावा कोई भी नही मिला था। दोनों शिक्षक अनुपस्थित थे जिसमें शिक्षिका माधुरी कश्यप को मेरे द्वारा कारण बताओ नोटिस दी गई है।

उसके अलावा एक शिक्षक का तीन माह से वेतन रोक दिया गया है क्योंकि वो आदतन ही गैर हाजिर रहने वाला शिक्षक है। बधाों की उपस्थिति के संबंध में विचार कर कार्यवाही की जाएगी।

Source : Agency