भोपाल
अपनी मांगों को लेकर राजधानी के नीलम पार्क में दिव्यांगों का धरना प्रदर्शन 27 वें दिन भी जारी है।बीती रात पुलिस-प्रशासन  मौके पर पहुंचा और उनमें से तीन दिव्यांगों को जबरदस्ती उठाकर हमीदिया अस्पताल में  भर्ती करवा दिया। इस दौरान दिव्यांगों ने पुलिस का विरोध किया , लेकिन पुलिस ने भी सख्ती बरतते हुए हल्का बल प्रयोग कर उन्हें वहां से हटा दिया।पुलिस ने बाकी दिव्यांगों को उनके हॉस्टल और घर भेज दिया है।

दरअसल, नीलम पार्क में रोजगार शिक्षा समेत अपनी 23 सूत्रीय लंबित मांगों को लेकर दृष्टिबाधित दिव्यांग पिछले २७ दिनों से धरना दे रहे है।उनमें से तीन दिव्यांगों ने सरकार के खिलाफ अनशन शुरु कर दिया। जिसके चलते उनकी तबीयत खराब हो गई।जब इस बात की खबर पुलिस प्रशासन को लगी तो वे एडीएम जीपी माली अपने साथ पुलिस बल लेकर शनिवार देर रात नीलम पार्क पहुंचे। पहले तो दिव्यांगों को समझाइश दी गई , लेकिन जब वे नहीं माने तो उन्होंने बल का प्रयोग किया और तीनों दिव्यांगों कालीचरण मुरैना निवासी, मुकुंद यादव ग्वालियर निवासी और गणेश प्रसाद शुक्ल रीवा निवासी को जबरन उठाकर एंबुलेंस से हमीदिया में भर्ती करवा दिया। बाकियों को भी बसों में भरकर हॉस्टल और अन्य जगह भेज दिया। पुलिस के इस बल के आगे दिव्यांगों ने खूब विरोध किया और जमकर नारेबाजी की। इतना ही नहीं दिव्यांगों को जैसे ही पुलिस ने बसों में भरा वे वैसे ही खिड़कियों से कूदने लगे और एक तो बस के आगे जाकर लेट गया।लेकिन पुलिस ने उनकी एक ना सुनी औऱ जबरन पकड़कर बस में बैठा दिया। इस दौरान कई दिव्यांगों की आंखों में आंसू आ गए वे सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने लगे।

लेकिन इस बल प्रयोग से दिव्यांगों की हिम्मत नहीं टूटी और वे फिर आज नीलम पार्क में पहुंच गए। अपनी मांगों को लेकर उनका धरना आज भी जारी है। दिव्यांगों का कहना है कि सरकार कितनी भी कोशिश कर ले हम यहां से हटने वाले नहीं।  साथ ही दिव्यांगों का आरोप है कि सरकार उनकी मांगों की मानने के बजाय दूसरा रास्ता निकाल रही है। अधिकारियों को भेजकर हमें हटाने की कोशिश की जा रही है। लेकिन जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं हो जाती तब तक ये आंदोलन जारी रहेगा।

यह है दृष्टिहीन युवाओं की मुख्य मांगें-

1. उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए आदेश का सहशब्द पालन किया जाए

2. दृष्टि हीनो की सीधी भर्ती प्रदेश स्तर से किया जाए

3. पूर्व मे की अवैध भर्ती की पुनः जाँच कि जाए

4. विशेष विद्यालय में रिक्त पदों पर भर्ती करे

5. विशेष विद्यालय में कम्प्यूटर शिक्षा अनिवार्य किया जाए

6. दृष्टि हीन छात्राओं के लिए शासकीय उ.मा. विद्यालय व महाविद्यालय मे छात्रावास खोले जाए

7. दृष्टि हीन छात्रों के लिए महाविद्यालय छात्रावास हर संभाग में खोले जाए

8. ITI कर रहे छात्र छात्राओं के लिए शासकीय छात्रावास खोले जाए

9. प्रदेश के शिक्षित बेरोजगार ट्रष्टीबाधीक दिव्यांकनो को न्यायालय के आदेश अनुसार भत्ता दिया जाए

10. दृष्टि हीन को दी जाने वाली राशि को बढ़ाकर 1500 रुपये प्रति माह की जाए

Source : Agency