इलाहाबाद 
देशभर में मकर संक्राति की धूम है। श्रद्धालु गंगा घाटों पर सुबह से ही पुण्य की डुबकी लगा रहे हैं। मकर संक्रांति के मौके पर भीषण ठंड के बावजूद इलाहाबाद में गंगा, यमुना और पवित्र सरस्वती नदी के संगम पर स्नान के लिए श्रद्धालुओं का तांता लगा हुआ है। शाम तक करीब 70 लाख श्रद्धालुओं के संगम में डुबकी लगाने का अनुमान है।
 


श्रद्धालुओं की भारी भीड़ को देखते हुए इलाहाबाद के जिला प्रशासन और स्थानीय पुलिस ने व्यापक इंतजाम किए हैं। 14 और 15 जनवरी को होने वाले विशेष स्नान के लिए प्रदेश और देश के कोने-कोने से बड़ी संख्या में श्रद्धालु इलाहाबाद पहुंचे हैं। माघ मेले के मकर संक्रांति स्नान को ध्यान में रखते हुए पुलिस ने शहर और मेले के लिए विशेष ट्रैफिक प्लान लागू किया है। इसके तहत शनिवार रात से इलाहाबाद शहर में बड़े वाहनों के प्रवेश को प्रतिबंधित किया गया है। 

मकर संक्रांति पर इस बार दुर्लभ संयोग 
माघ मेले में मकर संक्रांति के स्नान के लिए श्रद्धालुओं के साथ-साथ बड़ी संख्या में साधु संत भी इलाहाबाद पहुंचे हैं। ज्योतिषियों के मुताबिक कई वर्षों बाद इस बार मकर संक्रांति के दिन विशेष मुहूर्त में दुर्लभ संयोग बन रहा है। ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि माघ मेले की मकर संक्रांति में बन रहे इस संयोग में संगम में स्नान करने से श्रद्धालुओं को मनचाहे फल की प्राप्ति हो सकेगी। 

20 लाख श्रद्धालु पहुंचे सागर द्वीप 
उधर, मकर संक्रांति के मौके पर गंगा सागर में स्नान के लिए देश-विदेश से करीब 20 लाख श्रद्धालु सागर द्वीप पर पहुंचे हैं। सुबह से ही यहां पर स्नान के लिए श्रद्धालुओं की लाइन लगी हुई है। गंगा सागर में स्नान के लिए नेपाल, भूटान और बांग्लादेश से भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचे हैं। 

दक्षिण 24 परगना जिले के डीएम वाई रत्नाकर राव ने कहा, 'पिछले साल गंगा सागर में पुण्य की डुबकी लगाने के लिए 15 लाख लोग आए थे। इस वर्ष यहां पर 20 लाख लोग पहुंचे हैं। हमने उनके लिए सुरक्षा के व्यापक बंदोबस्त किए हैं। करीब 3 हजार सुरक्षाकर्मियों तैनात किया गया है। भीड़ पर नजर रखने के लिए सात ड्रोन विमान तैनात किए गए हैं।' इसके अलावा वाराणसी, हरिद्वार, पटना में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु गंगा में स्नान कर रहे हैं। 

Source : Agency