भोपाल
अपनी विभिन्न मांगों को लेकर आजाद अध्यापक संघ के बैनर तले जम्बूरी मैदान में हड़ताल पर डटीं महिला शिक्षिकाओं ने आज मुंडन करा लिया। एक सैकड़ा पुरुष शिक्षकों के साथ दो दर्जन से अधिक महिला शिक्षिकाओं ने भी  शनिवार दोपहर में मुंडन कराया। महिला शिक्षिकाओं के मुंडन कराने की घटना को देखकर कुछ महिला शिक्षिकों के आंख में आंसू आ गए। एक महिला शिक्षिका व दो पुरुष शिक्षकों को सीने में दर्द (माइनर अटैक) के बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ज्ञात हो कि पांच दिन पहले आजाद अध्यापक संघ ने सरकार को मांगे पूरी करने का अल्टीमेटम दिया था।

मांगे नहीं माने जाने पर शनिवार को राजधानी के जम्बूरी मैदान में हजारों की संख्या में एकत्रित हुए हैं। विरोध के दौरान सुरेंद्र पटेल, आशीष दुबे और सारिका अग्रवाल बेहोश हो गए। इसके बावजूद जंबूरी मैदान में जुटी अध्यापकों की भीड़ के बीच मुंडन कराने को लेकर होड़ मची रही।  जिन महिला टीचर्स ने मुंडन कराया उनमें अध्यापक प्रांत अध्यक्ष शिल्पी सिवान, रेणु सागर, अर्चना शर्मा और सीमा छीरसागर शामिल हैं। शिल्पी सिवान ने बताया कि भाजपा सरकार की नीतियों को देखते हुए अगले चुनाव में भाजपा को वोट नहीं देंगे और लोगों से वोट न देने की अपील भी करते हैं।  सरकार के वादे और नीतियों के विरोध में अध्यापक एकजुट हुए हैं। ये सभी टीचर शिक्षा विभाग में संविलियन,तबादला बंधनमुक्त नीति,अनुकंपा नियुक्ति,सातवां वेतनमान और अन्य मांगों को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।

Source : Agency