कल तक तो अफवाह थी, आज हकीकत बान गई है. कंगना रनौत और करन जौहर मिले, हंसे और किसी बिछड़े हुए दोस्त की तरह गले मिले. देखने वालों के लिए ये बहुत अचरज की बात थी लेकिन फिल्मी दुनिया में कुछ भी हो सकता है और एक बार फिर कुछ ऐसा ही हुआ.

करन जौहर और रोहित शेट्टी जल्द ही टीवी पर एक नया रियलिटी शो लेकर आ रहे हैं, 'इंडियाज नेक्स्ट सुपरस्टार्स'. इस शो में उन्होंने कंगना रनौत को जज के तौर पर बुलाया और कंगना अपने इस पुराने दोस्त से दुश्मन बने निर्देशक के शो की शूटिंग के दौरान सेट पर पहुंच गईं.

यह तस्वीर शो की शूटिंग के दौरान की ही है. इसने सोशल मीडिया को थोडा सा कंफ्यूज कर दिया है. दरअसल साल 2017 की सबसे कंट्रोवर्सीज में से एक रही 'नेपोटिज्म' की बहस ने कंगना और करन को अलग अलग खेमों में बांट दिया था. लेकिन अब शो के प्रोड्यूसरों ने कंगना को मोटी रकम देते हुए इस शो का हिस्सा बनने के लिए मना लिया!

शो के लॉन्च के दौरान जब करन से पूछा गया था कि क्या कंगना इस शो का हिस्सा होंगी, उन्होंने बहुत सहज अंदाज में जवाब दिया था कि अगर चैनल कंगना को बुलाता है तो वो सेट पर उनका खुले दिल से स्वागत करेंगे.

यह बात भी दर्शकों को बहुत चौंका रही है कि 'नेपोटिज्म' के बादशाह करन, जिन्होंने कई दफे कहा है कि स्टार्स के बच्चे खूबसूरत और आम एक्टर्स की बनिस्पत ज्यादा टैलेंटेड होते हैं, अब देश के अगले सुपरस्टार की खोज करेंगे!

कब शुरू हुई थी ये जंग!

बता दें कि कंगना और करन के बीच की यह लड़ाई शुरू हुई थी फरवरी 2017 में करन के शो 'कॉफी विद करन' से जब कंगना ने उन्हें 'नेपोटिज्म' यानी भाई भतीजावाद का सबसे बड़ा खिलाड़ी कह डाला था. उस वक्त तो करन ने इस बात को हँसते हुए मजाक में लिया था लेकिन अगले ही इंटरव्यू में उन्होंने कंगना की धज्जियां उड़ाने की कोशिश की थी.

इसके बाद हर इंटरव्यू में एक वार करन का होता था और एक कंगना का. IFFA 2017 में तो इस बात की इन्तेहां ही हो गई थी. IFFA जैसे बड़े प्लेटफॉर्म से करन, वरुण धवन और सैफ अली खान ने 'नेपोटिज्म रॉक्स' के नारे लगाए थे और 'बोले चूड़ियां बोले कंगना' जैसे गाने के साथ कंगना का जमकर मजाक उड़ाया था.

इसपर कुछ दिनों तक कंगना ने चुप्पी साधी लेकिन उनके बाद उन्होंने एक ओपन लैटर में अपने दिल का हाल बयान किया था. बाद में वरुण धवन, सैफ और करन तीनों ने ही कंगना से माफी मांगी थी.

लेकिन अब करन और कंगना के इस पुनर्मिलन को देखकर लगता है कि चाहे वो मुहीम को या ये नई नई पनपी दोस्ती, दोनों ही इनके लिए पब्लिसिटी स्टंट से ज्यादा कुछ नहीं है. वैसे भी फिल्मी दुनिया में 'प्रोफेशनल' होना समय और काम दोनों की ही मांग होता है.

Source : Agency