सर्दी के मौसम में अमरुद खाना कितना अच्‍छा लगता है। लेकिन क्‍या आपको मालूम है कि अमरुद खाने के बहुत ही फायदें है। अगर आप एलर्जी, गठियां दर्द, मुंह के छाले, अपच की समस्या, दांत दर्द, मुहांसों की समस्या, डायरिया या डेंगू आदि रोगों से परेशान है तो इन सबका एक मात्र उपाय अमरूद की पत्तियों में छुपा है। जिसके सेवन से आप इन सब बीमारियों से राहत पा सकते है। अमरूद की तासीर शीतल होती है। अमरूद पेट के अनेक विकार दूर करता है। इस भोजन के बाद खाने से कब्ज, अफारा व मंदाग्रि की शिकायत नहीं होती। यह सर्दी-जुकाम में अमरूद के बीजों का चूर्ण पानी के साथ लेने से आराम मिलता है। अमरूद में विटामिन सी अधिक होने से भी अनेक बीमारियों में फायदा होता है।

1. आधे सिर में दर्द होने पर कच्चे हरे ताज़े अमरूद को सूर्य के उदय होने से पहले पत्थर पर घिसकर लेप तैयार कर लें और इस लेप को माथे पर लगाएं। ऐसा कुछ दिनों तक नित्य प्रयोग करने से आपको शीघ्र ही लाभ प्राप्त होगा।

2-अमरूद कृमिनाशक भी है, छोटे बच्चों के पेट में कीडे हों, तो अमरूद के साथ शहद मिलाकर देने से कीडे नष्ट हो जाते हैं।

3- अधपके ताजा अमरूदों कोपानी में भिगोकर चाशनी में डालकर बनाया हुआ मुरब्बा खाने से आंत की शिकायत दूर हो जाती है।

4- कब्ज होने पर खाली पेट नियमित कुछ दिनों तक पके अमरूद का सेवन करने से कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है।

5- अमरूद को काटकर उस पर काला नमक और कालीमिर्च का चूर्ण डालकर खाने से अफारा रोग दूर होता है तथा पाचन क्रिया सुधरती है।

6- रात को सोते वक्त अमरूद के पत्तों को पीसकर पुल्टिस बनाकर बांधने से आंखों को दर्द, सूजन तथा लाली दूर होती है।

7. अमरूद और अमरूद की पत्तियां पेट की किसी भी समस्या के लिए असरकारक औषधि है। अतः एक गिलास पानी में अमरूद की पत्‍तियों को डाल कर उबालें और फिर उसका पानी छान कर पीने से यह डायरिया रोग को दूर भगाता है।

8 . एंटीसेप्‍टिक गुण के कारण अमरूद के पत्ते बैक्‍टीरिया को मारने की अचूक शक्ति रखते हैं। ताज़ी पत्तियों को पीस कर मुंहासों पर लगाएं, तो कुछ ही दिनों में मुहांसे दूर भाग जायेंगे।

9. अमरूद के पत्तों को चबाने या इसके पत्तों के काढे में फिटकरी मिलाकर कुल्ला करने से दांतों का दर्द दूर हो जाता है।

10. डेंगू बुखार होने पर यदि अमरूद की पत्‍तियों का रस रोगी को पिला दें तो इसके सेवन से बुखार के संक्रमण दूर हो जाते है।

11. अगर किसी व्‍यक्ति को भांग का नशा भयंकर चढ़ गया हो तो उसे अमरूद के पत्‍तों का रस पिलाने से नशा कम हो जाएगा। रस की बजाय आप अमरूद के पत्‍तों को भी खिला सकते हैं बशर्ते वो नशेड़ी व्‍यक्ति उसे अच्‍छे से चबा ले।

 

Source : Agency