अमेरिका और उत्तर कोरिया में जारी गतिरोध के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप नरम पड़ते नजर आ रहे हैं। उन्होंने दक्षिण कोरिया के नेता से बुधवार को कहा कि यूएस, उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग की सरकार से बातचीत के लिए तैयार है। लेकिन ये बातचीत सही परिस्थतियों में होनी चाहिए। 
 
 
व्हाइट हाउस ने बयान जारी करते हुए कहा कि ट्रंप और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन उत्तर कोरिया की परमाणु नीति के खिलाफ हैं और इस बात से सहमत हैं कि उत्तर कोरिया पर इस मामले में दवाब बनाना चाहिए। अमेरिका द्वारा लगाए गए प्रतिबंध उत्तर कोरिया की इकोनॉमी को नुकसान पहुंचा रहे हैं। 

योनहप न्यूज एजेंसी के मुताबिक दक्षिण कोरिया के प्रेसीडेंशियल ऑफिस ने बताया कि ट्रंप ने मून से कहा कि उत्तर कोरिया समझता है कि अगर दो कोरियाई देश एक साथ हो जाएंगे तो अमेरिका किसी भी तरह का मिलिट्री एक्शन नहीं लेगा। मंगलवार को दोनों कोरियाई देशों ने दो सालों में पहली बार दक्षिण में होने वाले विंटर ओलंपिक पर बातचीत की थी।

आपको बता दें कि उत्तर कोरिया अपने परमाणु हथियारों से मसले पर किसी भी प्रकार से समझौता करने को तैयार नहीं है। रूलिंग पार्टी के न्यूजपेपर ने कहा कि अब अमेरिका को मान लेना चाहिए कि उत्तर कोरिया एक परमाणु शक्ति है।

 
हालांकि ट्रंप ने उत्तर कोरिया पर जिस तरह से नरमी दिखाते हुए बातचीत की पहल की है,उससे दोनों देशों के बीच गतिरोध कम हो सकता है।

Source : Agency