वाशिंगटन

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने लगातार अपने भाषणों में 'अमेरिका फर्स्ट' का नारा देते हैं. इसी के तहत अमेरिका लगातार ट्रैवल एडवाइज़री में बदलाव कर रहा है. 10 जनवरी को अमेरिका ने अपनी नई ट्रैवल एडवाइज़री जारी की है. इसमें भारत को लेवल 2 और पाकिस्तान को लेवल 3 पर रखा गया है. अमेरिका ने अपने नागरिकों के लिए पाकिस्तान जाना एक खतरा भरा कदम बताया है. बता दें कि हाल ही के दिनों में जिस तरह से पाकिस्तान के प्रति अमेरिका का सख्त रुख सामने आया है, इस बीच ट्रैवल एडवाइज़री उसके लिए बड़ी चिंता का विषय है.   

आपको बता दें कि अमेरिका में लेवल के आधार पर अन्य देशों को सुरक्षा के आधार पर मापा जाता है. इन्हीं लेवल के आधार पर एयरपोर्ट पर चैकिंग, वीज़ा आदि संबंधी चीजों को देखा जाता है. और अमेरिकी नागरिकों को उस देश की सुरक्षा के बारे में चौकन्ना किया जाता है.

किस लेवल का क्या मतलब -

लेवल 1 - इस श्रेणी में सबसे कम खतरा होता है, सिर्फ अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर सख्त चैकिंग हो सकती है.

लेवल 2 - इस श्रेणी के दौरान सुरक्षा का पैमाना बढ़ जाता है. अमेरिकी गृह मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि हाई रिस्क के समय इन देशों में यात्रा के दौरान सावधानी बरतें. (भारत को इसी श्रेणी में रखा गया है)

लेवल 3 - आपातकालीन स्थिति में इन देशों की यात्रा ना करें, ऐसा करना काफी रिस्की हो सकता है. (पाकिस्तान इसी श्रेणी में है)

लेवल 4 - इन देशों में यात्रा करने से जान को खतरा हो सकता है, यहां पर यात्रा ना करें.

इसके अलावा भी अमेरिकी गृह मंत्रालय अपने नागरिकों को किसी इमरजेंसी के दौरान सचेत करता रहेगा. जारी प्रेस रिलीज़ के अनुसार, अलग-अलग परिस्थितियों के लिए अलग तरह के कोड बनाए गए हैं.

इनमें C- क्राइम, T- टेररिज्म, U- सिविल अनरेस्ट, H- हेल्थ, N- प्राकृतिक आपदा, E- समयबद्ध कार्यक्रम, O- अन्य शामिल हैं. इन सिग्नल से ही यात्रा करने वाले देश की उस समय की परिस्थिति को बताया जा जाएगा. नई एडवाइज़री में अमेरिका ने 5 मैक्सिकन देशों को रखा है, जहां पर ना जाने की सलाह दी गई है.

Source : Agency