लखनऊ
समाजवादी पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर अभियान शुरू कर दिया है. इसी संबंध में पार्टी के प्रदेश मुख्यालय पर सोमवार को 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में लड़े समाजवादी पार्टी के प्रत्याशियों की बैठक हुई.

बैठक में किसानों की समस्याओं, लोकसभा चुनाव, मतदाता पुनरीक्षण को लेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रत्याशियों को सम्बोधित किया. उन्होंने कहा कि 17 जनवरी को समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता आलू की बर्बादी, धान खरीद में लूट, खाद, बीज न मिलना, बिजली के दामों में बढ़ोत्तरी, गन्ना भुगतान का बकाया जैसे किसानों की समस्याओं को लेकर तहसील स्तर पर धरना प्रदर्शन करेंगे.

अखिलेश यादव ने कहा कि कार्यकर्ता विधानसभा क्षेत्र में मतदाता सूची पुनरीक्षण के लिये बूथ कमेटी पर मतदाताओं के नाम शामिल कराने का काम करेंगे. उन्होंने मतदाता सूची में गड़बड़ी से सतर्क रहने के लिए सक्रिय होने का आह्वान किया. सपा मुखिया ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी को रोकने की ताकत केवल समाजवादी पार्टी के पास है. बीजेपी समाज को तोड़ने का काम कर रही है. यूपी सरकार दूसरे के काम को अपना काम बनाने का झूठा प्रचार कर रही है.

अखिलेश यादव ने कहा कि किसानों की आत्महत्या, ठण्ड से हो रही मौतों पर पीड़ित परिवारों की बीजेपी सरकार कोई मदद नहीं कर रही है. उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी ही लोकसभा चुनाव में विकल्प है. किसी भी राजनीतिक पार्टी के पास ऐसे निष्ठावान कार्यकर्ता नहीं हैं, जैसे समाजवादी पार्टी के पास हैं. बैठक में प्रो रामगोपाल यादव ने कहा कि एक-एक कार्यकर्ता पूरी निष्ठा से लोकतंत्र को बचाने में रात दिन एक करे. 2019 में बूथ-बूथ पर संघर्ष होगा. कार्यकर्ताओं को बूथ बचाने की लड़ाई लड़नी है.

बैठक में विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामगोविन्द चौधरी, नेता विरोधी दल विधान परिषद अहमद हसन, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, माता प्रसाद पाण्डेय, इन्द्रजीत सरोज, राजेन्द्र चौधरी, बलराम यादव एवं आरके चैधरी, एसआरएस यादव और अरविन्द कुमार सिंह उपस्थित रहे.

Source : Agency