मुंबई 
कर्ज के बोझ से लेकर फसल खराब होने तक, किसानों के आत्महत्या करने की खबरें आम हो चली हैं। महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि 2001 से लेकर अक्टूबर 2017 तक राज्य के लगभग 26,339 किसान आत्महत्या कर चुके हैं। सरकार ने कहा कि इनमें से 12,805 किसानों ने कर्ज और उपज न होने के चलते यह कदम उठाया। 

राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने विधानसभा में बताया, 'महाराष्ट्र में 2001 से अक्टूबर 2017 तक आत्महत्या करने वाले किसानों की संख्या 26,339 है। इनमें से 12,805 ने कर्ज में डूबे होने, फसल की उपज न होने और कर्ज चुकाने में नाकाम रहने की वजह से आत्महत्या की।' 

वह नेता विपक्ष राधाकृष्ण विकास पाटिल के राज्य में किसानों की आत्महत्या से जुड़े मुद्दे पर बोल रहे थे। पाटिल ने बताया, 'इस साल 1 जनवरी से 15 अगस्त के बीच मराठवाड़ा क्षेत्र के 580 किसानों ने आत्महत्या की है। अकेले जिले में ही इस साल 115 आत्महत्या के मामले सामने आए हैं।' 

Source : Agency